44 जवानों की शहादत से व्यथित हुआ पूरा देश, आक्रोशित देशवासियों ने कहा we want 2nd SURGICAL STRIKE

 गुरुवार का दिन देश के लिए काला दिन साबित हुआ। जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों पर अब तक के सबसे बड़े फिदायीन हमले में अब तक सीआरपीएफ के 44 जवान शहीद हो गए। जबकि 44 जवान बुरी तरह जख्मी हुए हैं। सभी घायल जवानों को उपचार के लिए बादामी बाग सैन्य छावनी स्थित सेना के 92 बेस अस्पताल में दाखिल कराया गया है। यह हमला जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर अवंतीपोर के पास गोरीपोरा में हुआ। जो‌ कि 18 सितंबर 2016 के उरी हमले से भी बड़ा हमला है। हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने ली है। जिसको मिडिया में साफ तौर पर दिखाया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हमले के बाद जवानों की शहादत को नमन करते हुए कहा कि बहादुर जवानों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा और शहीदों के परिवारों के साथ पूरा देश है। वहीं रूस, अमेरिका एवं इजरायल सहित दुनियाभर के क‌ई देशों ने इस हमले की निंदा की है। वहीं तमाम राजनीतिक दलों सहित देश की जानी-मानी हस्तियों, फिल्मी सितारों के साथ-साथ हमले से व्यथित देश की जनता ने आतंकियों सहित पाकिस्तान को कड़ा सबक सिखाने की मांग सरकार से की है।




सोशल मीडिया पर वायरल संदेशों में तमाम देशवासियों ने शहीदों की शहादत को नमन कर सरकार से दूसरी सर्जिकल स्ट्राइक की मांग की है। बता दें कि सीआरपीएफ का 78 वाहनों का काफिला 2500 जवानों को लेकर जम्मू से श्रीनगर आ रहा था। इनमें ज्यादातर अपनी छुट्टी बिताकर ड्यूटी ज्वाइन करने जा रहे थे। दोपहर बाद सवा तीन बजे जैसे ही काफिला जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे पर गोरीपोरा (अवंतीपोर) के पास पहुंचा तो फिदायीन हमलावर ने विस्फोटक भरी कार को उस काफिले की बस से टकरा दिया, जिससे विस्फोट में बस के परखच्चे उड़ गए। इस शक्तिशाली विस्फोट में अब तक 44 जवान शहीद और 44 जख्मी हो गए। काफिले में शामिल तीन अन्य वाहनों को भी भारी क्षति पहुंची है।घायल जवानों को उपचार के लिए बादामी बाग सैन्य छावनी स्थित सेना के 92 बेस अस्पताल में दाखिल कराया गया है।




विस्फोटक भरी कार के काफिले के बस से टकराने से हूए धमाके की आवाज से पूरा इलाका दहल गया और आसमान में काले धुएं के गुब्बार के साथ सड़क पर लोगों को रोने चिल्लाने की आवाजें आने लगी। स्थानीय लोगों के अनुसार इस धमाके की आवाज घटनास्थल से 10-12 किमी दूरी तक सुनाई दी। धमाके के बाद काफिले में शामिल अन्य वाहन तुरंत रुक गए और उनमें सवार जवान जब बाहर निकल रहे थे तो वहीं एक जगह पोजीशन लिए बैठे आतंकियों ने उन पर गोलियां भी दागी। जवानों ने तुंरत अपनी पोजीशन लेकर जवाबी फायर किया। बताया जा रहा है कि जवाबी फायर पर आतंकी वहां से भाग निकले। आतंकी हमले का निशाना बनी बस सीआरपीएफ की 54वीं वाहिनी की है। आतंकियों द्वारा धमाके में इस्तेमाल कार में सवार आत्मघाती आतंकी आदिल अहमद के भी मारे जाने का दावा किया जा रहा है। संबंधित अधिकारियों ने बताया कि 12 जवान मौके पर ही शहीद हो गए थे, जबकि चार अन्य ने अस्पताल ले जाते हुए रास्ते में दम तोड़ा। 11 अन्य जवानों की अस्पताल में शहादत पाई। पीएम ने कहा जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी तो राजनाथ बोले होगी हरसंभव कार्यवाही , गोतम गम्भीर, अनुपम खेर बोले अब निन्दा नहीं, बल्कि एक भी आतंकी जिन्दा नहीं चाहिए।




जवानो पर हुए आतंकी हमले की पीएम सहित तमाम राजनीतिक दलों के वरिष्ठ नेताओं, फिल्मी सितारों सहित देश की तमाम जानी-मानी हस्तियों ने निंदा की है। पीएम नरेन्द्र मोदी ने जवानों की शहादत को नमन करते हुए कहा कि बहादुर जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि जवानों की शहादत पर हम चुपचाप नहीं बैठेंगे। उन्होंने देशवासियों को आतंकियों पर हरसंभव कार्रवाई का भरोसा दिलाया। वहीं पूर्व क्रिकेटर गोतम गम्भीर, वालीवुड अभिनेता अनुपम खेर सहित तमाम दिग्गजों ने इस हमले की निंदा की है। गौतम गंभीर ने अपने ट्वीट में कहा कि अब बातचीत मेज पर नहीं युद्ध के मैदान पर होनी चाहिए।




लेख शेयर करे

Comments

Devbhoomidarshan Desk

Devbhoomi Darshan site is an online news portal of Uttarakhand through which all the important events of Uttarakhand are exposed. The main objective of Devbhoomi Darshan is to highlight various problems & issues of Uttarakhand. spreading Government welfare schemes & government initiatives with people of Uttarakhand.