Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day

उत्तराखण्ड

रूद्रप्रयाग

पीएम मोदी ने बाबा केदार के दर्शन से पहले भारत चीन सीमा पर सेना के जवानों को मिठाई खिलाकर मनाई दीपावली




पीएम मोदी का उत्तराखंड के प्रसिद्द धाम केदारनाथ और बद्रीनाथ से अथाह आस्था है जिसका पता इसी बात से चलता है , की पीएम मोदी इससे पहले भी पिछले डेढ़ साल में तीन बार केदारनाथ धाम आ चुके हैं। इसके साथ ही केदारघाटी में स्थित गरुड़चट्टी में उन्होंने तीन दशक पहले साधना भी की थी। बता दे की बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक दिवसीय उत्तराखंड दौरे के तहत सुबह करीब पौने सात बजे जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंचे। सबसे खाश बात तो ये है की सैन्य कैंप जाने के इस कार्यक्रम को प्रशासन को से दूर रखा गया था। सूत्रों के अनुसार जिलाधिकारी को भी इसकी जानकारी नहीं दी गई थी।




जौलीग्रांट एयरपोर्ट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 7:10 पर सेना के 4 एम आई -17 हेलीकॉप्टर की सुरक्षा घेरे में एयरपोर्ट से उत्तरकाशी जिले में भारत चीन सीमा पर स्थित हर्षिल के लिए रवाना हुए। हर्षिल में उन्होंने गंगा किनारे छोटे शिव मंदिर में प्रधानमंत्री ने पूजा अर्चना की और गंगा को नमन किया। हर्षिल में उन्होंने गंगा किनारे छोटे शिव मंदिर में प्रधानमंत्री ने पूजा अर्चना की और गंगा को प्रणाम किया। इसके बाद पीएम मोदी महार रेजिमेंट के कैंप में पहुंचे, जहां आर्मी जवानों ने पीएम का भव्य स्वागत किया। कैंप में सेना के जवानों को पीएम मोदी ने दीपावली की दी बधाई दी और मिठाई खिलाई। इस दौरान पीए मोदी आइटीबीपी के अधिकारियों व जवानों को भी मिले तथा दीपावली की बधाई दी। पीएम से मिलने के लिए हर्षिल और बगोरी के ग्रामीण भी पहुंचे। बगोरी के प्रधान भवान सिंह के नेतृत्व में ग्रामीणो ने भेड़ की ऊन से बनाई गई शाल भेंट की और गांव की महिलाओं ने पीएम को फूल भेंट किए। इसी दौरान उन्होंने चीन सीमा से जुड़े महत्वपूर्ण पहलुओं पर सैन्य अधिकारियों से जानकारी ली।








इसके बाद पीएम मोदी 9.15 बजे हर्षिल से केदारनाथ के लिए रवाना हुए। पीएम मोदी मंदिर के अंदर करीब 10 से 15 मिनट रहे। उन्होंने पूजा करने के बाद मंदिर की परिक्रमा की और पिछले कुछ दिनों में धाम में हुई बर्फबारी से खूबसूरत हुए नजारे का भी दीदार किया।प्रधानमंत्री ने मंदिर प्रांगण में लगाई गई केदारनाथ की तस्वीरों का भी अवलोकन किया, जिसमें वर्ष 2013 में आई प्रलयंकारी भीषण आपदा से उजड़ गए क्षेत्र के पुनर्निर्माण की यात्रा को दर्शाया गया था। केदारनाथ धाम में बाबा केदार के दर्शन और पूजा-अर्चना करने के बाद उन्होंने केदारनाथ पुनर्निमाण कार्यों की समीक्षा की और 11:55 मिनट पर वे वापस दिल्ली के लिए लौट गए।




लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top