Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day

उत्तराखण्ड

देहरादून

‘अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना’ से जुडी हर सूचना आपके मोबाइल पर, जानिए अटल आयुष्मान योजना की जरुरी बाते



उत्तराखण्ड को सौगात में मिली ‘अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना’ शुरू हो गई है। राज्य के 23 लाख परिवार अब इसके दायरे में आएंगे। मंगलवार को पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती के अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने इस महत्वाकांक्षी योजना का योजना का विधिवत शुभारंभ किया। रेसकोर्स स्थित बन्नू स्कूल के मैदान में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने योजना का शुभारंभ किया। जहाँ हजारों की संख्या में लाभार्थी भी कार्यक्रम में पहुंचे थे। अब प्रदेश के सभी 23 लाख परिवार प्रति वर्ष पांच लाख रुपये के निशुल्क इलाज के दायरे में आ गए हैं। मंगलवार को करीब 10 हजार लोगों की उपस्थिति में मुख्यमंत्री ने योजना का शुभारंभ किया।




बता दे की मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अटल आयुष्मान भारत स्वास्थ्य योजना को लांच करने के साथ ही इसके लिए मोबाइल एप और वेबसाइट भी लांच किया। इलाज को सुलभ बनाने के लिए 99 सरकारी व 66 निजी चिकित्सा संस्थान योजना के अंतर्गत चयनित किए गए हैं। योजना को बेहतर बनाने के लिए टोलफ्री हेल्पलाइन नंबर 104 शुरू करने के साथ ही मोबाइल एप (अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना) और वेबसाइट भी शुरू की गई है। प्रदेश के 23 लाख राशन कार्ड धारकों के साथ केंद्र के एसीसी सर्वे में चयनित 5.37 लाख लोगों व 2012 की वोटर लिस्ट में जिन लोगों के नाम दर्ज हैं, वे योजना में निशुल्क इलाज के लिए पात्र होंगे। एप व वेबसाइट के जरिये कोई भी व्यक्ति योजना में अपनी पात्रता के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकेगा। आयुष्मान योजना के तहत अस्पताल में भर्ती होने पर पांच लाख तक के निशुल्क इलाज की सुविधा देने का प्रावधान है। कोई भी व्यक्ति अपनी शिकायत व सुझावों को दर्ज कराने करने के लिए टोलफ्री हेल्पलाइन नंबर 104 का उपयोग कर सकते है।




कैसे करे पंजीकरण :अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना मे अपना पंजीकरण करना बहुत आसान हैं। सबसे पहले आपको  गूगल प्ले स्टोर में अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना’ एप डाउनलोड करना होगा। एप में वोटर आईडी नंबर और नाम डालकर पता लगा सकेंगे कि आपका नाम है, या नहीं। नाम न होने पर अपना या परिवार के सदस्यों का नाम जोड़ सकते हैं।  लेकिन ध्यान रहे  2011 के सामाजिक आर्थिक और जातीय जनगणना में आपका नाम होना चाहिए या 2012 के राशन कार्ड या वोटर आईडी या मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना का कार्ड आपके पास होना चाहिए। इनमें से अगर आपके पास कोई भी प्रमाण होगा तो आप योजना के पात्र होंगे। इसके साथ साथ ही http://ayushmanbharat.co.in/ की साइट पर जाकर अस्पतालों की सूची भी देख सकेंगे।




लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top