Connect with us
Uttarakhand Government Coronavirus donate Information
alt"=uttarakhand board result girl ate poision"

उत्तराखण्ड

नैनीताल

उतराखण्ड: 10वीं में छात्रा हुई फेल तो गटक लिया जहर

Uttarakhand board 10th result:परीक्षा परिणामों से आहत छात्रा ने उठाया आत्मघाती कदम, गटक लिया घर में रखा जहरीला पदार्थ, अभिभावकों से अपील परीक्षा परिणामों में असफल छात्र छात्राओं पर दें ज्यादा ध्यान..

उत्तराखण्ड बोर्ड का परीक्षाफल (Uttarakhand board 10th result) घोषित हो गया है। परीक्षा परिणामों में जहां राज्य के नौनिहालों ने शानदार प्रदर्शन किया। वहीं कुछ विद्यार्थियों को निराश भी होना पड़ा। आज जबकि सोशल मीडिया हमारे समाज पर पूरी तरह हावी हो चुका है। ऐसे समय में असफल विद्यार्थियों पर ध्यान देने की सबसे ज्यादा जरूरत है। हर वर्ष जब-जब परीक्षा परिणाम जारी होता है हर कोई अपने नौनिहालों से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद करता। बहुत से छात्र-छात्राएं परिजनों की आकांक्षाओं पर खरे उतरते हुए सफलता का दामन चूमते हैं। तो कुछ छात्र असफल भी हो जाते हैं। सबसे दुःख की बात तो यह है कि ये असफल छात्र अपनी इसी असफलता के बारे में सोचकर गलत कदम उठा लेते हैं। इससे न सिर्फ उनका जीवन खतरे में पड़ जाता है बल्कि क‌ई छात्र-छात्राओं की मौत भी हो जाती है। हर वर्ष की तरह आज एक बार फिर राज्य के नैनीताल जिले से दुखद खबर सामने आ रही है जहां एक छात्रा ने हाईस्कूल में फेल होने के कारण आत्मघाती कदम उठाते हुए जहर पी लिया। जिससे छात्रा की हालत बिगड़ने लगी। जिसे देखकर छात्रा के परिजन उसे नजदीकी अस्पताल ले गए जहां से उसकी नाज़ुक हालत को देखते हुए चिकित्सकों ने छात्रा को हायर सेंटर रेफर कर दिया। फिलहाल छात्रा की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।
यह भी पढ़ें- उत्तराखण्ड: छुट्टियों में घर आए गढ़वाल राइफल्स के जवान का आकस्मिक निधन, परिवार में कोहराम

हालत बिगड़ने पर छात्रा को अस्पताल ले गए परिजन, चिकित्सकों ने किया हायर सेंटर रेफर: प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य के नैनीताल जिले के कोटाबाग ब्लाक के राकड़ पतलिया गांव निवासी छात्रा ने आज सुबह जैसे ही अपना रिजल्ट देखा तो उसे गहरा झटका लगा। परीक्षा परिणामों में उसे फेल घोषित किया गया था। जिससे छात्रा सदमे में चली गई और देखते हुए देखते उसने आत्मघाती कदम उठा लिया। बताया गया है कि उसने घर में रखा जहरीला पदार्थ गटक लिया, जिससे उसकी हालत बिगड़ने लगी। बेटी की बिगड़ती हालत देखकर परिजनों को उस पर शक हुआ और वे उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कोटाबाग लेकर गए। जहां उपस्थित डॉक्टर सलीम अंसारी ने प्राथमिक उपचार के बाद बताया कि परिजनों का शक सही था। छात्रा की नाजुक हालत देखकर डॉक्टर सलीम ने उसे हायर सेंटर हल्द्वानी रेफर कर दिया। जिस पर परिजन उसे हल्द्वानी स्थित नीलकंठ अस्पताल लेकर गए। चिकित्सकों के द्वारा उपचार के बाद फिलहाल छात्रा की हालत में सुधार हो रहा है। परिजनों के मुताबिक छात्रा राजकीय इंटर कॉलेज बजूनियाहल्दु में पढ़ती थी।

यह भी पढ़ें- पिथौरागढ़ के बंगापानी की आपदा में अभी तक 9 शव बरामद “पूरा गांव ही खत्म हो गया”…

लेख शेयर करे

Comments

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

VIDEO

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top