Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
all image showing alt text

उत्तराखण्ड

देहरादून

गुड्डी के साहस ने बचाई जंगल में खुंखार गुलदार से लक्ष्मी की जान, लोगो ने नहीं दिखाई इंसानियत

all image showing alt text

उत्तराखण्ड में आजकल गुलदारों का ऐसा आतंक हो रहा है की जहाँ कल शाम ही अल्मोड़ा के बग्वाली पोखर में 5 साल की बच्ची पर गुलदार ने हमला कर उसे घायल कर दिया वही देहरादून के राजाजी टाईगर रिजर्व की मोतीचूर रेंज कार्यालय से पांच सौ मीटर दूरी पर हाइवे से सटे जंगल में चारा पत्ती काट रही महिला पर गुुलदार ने जानलेवा हमला कर दिया। इस दौरान साथी महिलाओं ने बहादुरी का परिचय देते हुए भागने की बजाए गुलदार से टक्कर ली और महिला की जान बचाई। हमले में गंभीर रूप से घायल महिला को फौरन एम्स पहुंचाया गया जहां उनका उपचार चल रहा है। फिलहाल महिला की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।




जानकारी के मुताबिक चारा-पत्ती लेने गई पूर्व मंत्री दिनेश धनै के चचेरे भाई की पत्नी लक्ष्मी धनै पर गुरुवार को गुलदार ने अचानक जानलेवा हमला कर दिया। यह देख उनकी साथी गुड्डी सजवाण जान की परवाह किए बगैर गुलदार से जा भिड़ी और झाड़ियों से डंडा तोड़ उस पर ताबड़तोड़ वार कर दिए। इस अप्रत्याशित हमले से गुलदार बौखला गया और लक्ष्मी को छोड़ जंगल की ओर भाग निकला। जख्मी लक्ष्मी को एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) ऋषिकेश में भर्ती कराया गया है। खबर है सुबह करीब 11 बजे की जब खांडगांव नंबर-2 की कुछ महिलाएं चारा पत्ती लेने हाइवे के किनारे जंगल में गई। इसी बीच झाड़ियों में घात लगाए बैठे गुलदार ने अचानक लक्ष्मी धनै पत्नी रणवीर धनै पर हमला कर दिया। गुलदार ने उनके गले पर वार किया और घसीटता हुआ झाड़ियों में ले जाने लगा। यह देख लक्ष्मी के साथ मौजूद गुड्डी सजवाण ने शोर मचाना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं, गुड्डी ने हिम्मत दिखाते हुए झाड़ियों से डंडा तोड़ा और गुलदार से जा भिड़ीं। उन्होंने गुलदार पर ताबड़तोड़ डंडे बरसाए, जिससे वह लक्ष्मी को छोड़कर भाग निकला।




महिला को नहीं दी किसी ने मदद : गुलदार के हमले से लहुलुहान हो चुकी लक्ष्मी देवी को महिलाएं जंगल से किसी तरह बाहर हाइवे तक लेकर पहुंची और वाहनों को हाथ देकर रोकने का प्रयास करने लगी। इंसानियत तब शर्मसार हुई जब घबराई महिलाओं के शोर और लहराते हाथ देख हाइवे पर वाहनों की कतारें लग गई, लेकिन किसी ने भी महिला को अस्पताल ले जाने की इंसानियत नहीं दिखाई। इसी बीच हरिपुर निवासी एक युवक फरिश्ता बनकर आया और घायल सहित दो अन्य महिलाओं को कार में बैठाकर एम्स के लिए रवाना हो गया।

लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top