Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt text=" uttarakhand Himani bhakuni became assistant professor of justice in health research university of netherland"

उत्तराखण्ड

नैनीताल

नीदरलैंड की हेल्‍थ र‍िसर्च यूनिवर्सिटी में उत्तराखंड की हिमानी बनीं असिस्‍टेंट प्रोफेसर

Himani bhakuni: नीदरलैंड की हेल्थ रिसर्च यूनिवर्सिटी में अस्टिटेंट प्रोफेसर आफ जस्टिस बनी उत्तराखण्ड की बेटी हिमानी भाकुनी, प्रदेश के साथ ही समूचे देश का नाम भी किया रोशन..

उत्तराखण्डकी बेटियां आज किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं है। राज्य की बेटियों ने अपनी लगन , मेहनत और काबिलियत के दम पर न‌ए-न‌ए मुकाम हासिल कर राज्य का नाम रोशन किया है। आज हम आपको राज्य की एक और ऐसी ही बेटी से रूबरू करा रहे हैं जिसने अपने कठिन परिश्रम से अपने परिजनों के साथ ही देश-प्रदेश का नाम पूरी दुनिया में रोशन किया है। जी हां हम बात कर रहे हैं राज्य के नैनीताल जिले की रहने वाली डॉक्टर हिमानी भाकुनी (Himani bhakuni) की, जिनका चयन नीदरलैंड की हेल्थ रिसर्च यूनिवर्सिटी में अस्टिटेंट प्रोफेसर आफ जस्टिस पद पर हुआ है। हिमानी की इस उल्लेखनीय उपलब्धि ने ने केवल उत्तराखण्ड को गौरवान्वित होने का सुनहरा अवसर प्रदान किया है बल्कि विश्व शिखर पर देश का मान भी बढ़ाया है। हिमानी की इस सफलता से जहां उनके परिजन काफी खुश हैं वहीं पूरे क्षेत्र में हर्षोल्लास का माहौल है।
यह भी पढ़ें- उत्तराखण्ड के नाम एक और बड़ी उपलब्धि, यूपीएससी के चेयरमैन बनाए गए प्रदीप जोशी

हर कक्षा में टॉपर एवं गोल्ड मेडलिस्ट रही हिमानी, स्कालरशिप से ही निकाला पढ़ाई का सारा खर्चा:- प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से राज्य के नैनीताल जिले की रहने वाली डॉक्टर हिमानी भाकुनी का चयन असिस्टेंट प्रोफेसर ऑफ जस्टिस इन ग्लोबल हेल्थ रिसर्च एट यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर ऊत्रेख नीदरलैंड पर हो गया है। बता दें कि हिमानी के पिता डॉ. भोपाल सिंह भाकुनी वरिष्ठ कांग्रेसी नेता हैं। बचपन से पढ़ाई में होनहार हिमानी ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा नैनीताल के सेंट मेरिज कॉन्वेंट स्कूल से प्राप्त की। इंटरमीडिएट के बाद उन्होंने पहले क्राइस्ट कॉलेज बेंगलुरु से एल‌एलबी किया, तत्पश्चात नीदरलैंड की ग्रोनइनगन यूनिवर्सिटी से फुल स्कॉलरशिप में एलएलएम व एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी से पीएचडी तथा तिलबर्ग यूनिवर्सिटी नीदरलैंड से डुअल डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। सबसे खास बात तो यह है कि हिमानी हर कक्षा में टॉपर एवं गोल्ड मेडलिस्ट रही हैं। जिस कारण उनकी सारी पढ़ाई का खर्चा स्कालरशिप से ही निकला। इस शानदार उपलब्धि को पाने वाली हिमानी वर्तमान में रॉटरडम यूनिवर्सिटी में सीनियर प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं।

यह भी पढ़ें- उत्तराखण्ड के लिए गौरवशाली पल, दिल्ली यूनिवर्सिटी के डीन बनाए गए दीवान सिंह रावत

लेख शेयर करे

Comments

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

VIDEO

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

RUDRAPRAYAG : DM VANDANA CHAUHAN

Advertisement
To Top