Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
all image showing Alt Text

उत्तराखण्ड

देहरादून

समाज की रूढ़िवादिता को तोड़कर ससुर ने पिता बनकर किया बहू का कन्यादान, ऐसे व्यक्तित्व को सलाम

all image showing Alt Text

समाज में इतनी रूढ़िवादिता है की अगर किसी नवविवाहित वधु के मांग का सिंदूर उजड़ जाये तो उसका समाज में जीवन व्यापन करना दूभर हो जाता है जहॉ हमारे समाज में बेटियों को दहेज़ के लिए प्रताड़ित किया जाता है , यहाँ तक की दहेज़ के लिए ससुराल पक्ष वाले बहुत बार हत्या तक कर देते है। वही समाज में ऐसे उच्च कोटि की विचारधारा रखने वाले व्यक्ति भी है जिन्होंने अपनी विधवा बहु की धूमधाम से शादी की।




बता दे की देहरादून के बालावाला निवासी विजय चंद ने अपने बेटे संदीप की शादी वर्ष 2014 में कविता से करवाई थी। परिवार में जहॉ खुशियाँ आयी ही थी की , वर्ष 2015 में इस हंसते-खेलते परिवार को ना जाने किस की नजर लग गयी और हरिद्वार में हुए एक हादसे में संदीप की मौत हो गई। संदीप की मौत के बाद परिवार में जहॉ माहौल गमगीन था वही विजय चंद और उनकी पत्नी कमला ने अपनी बहु कविता को हिम्मत दी। पति के निधन के बाद कविता ने एक बार अपने मायके जाने की भी सोची लेकिन फिर अपने माता पिता समान सास-ससुर के बारे में सोचते हुए यह कदम नहीं उठाया। विजय चंद और कमला ने बेटी समान बहु के भविष्य के बारे में सोचते हुए कविता की सहमति से उसके लिए लड़का तलाशना शुरू कर दिया और उनकी यह तलाश खत्म हुई ऋषिकेश निवासी तेजपाल सिंह पर जो एक निजी कंपनी में कार्यरत है। सबसे खाश बात तो ये है की दोनों परिवारों की सहमति से तेजपाल और कविता की शादी हुई और विजय चंद और कमला ने अपनी बेटी की तरह कविता को भीगी पलकों के साथ विदा किया।




यह भी पढ़ेपहाड़ के चार युवाओ ने वर्षो से बंजर पड़ी भूमि को एडवेंचर कैंप में तब्दील कर जगाई स्वरोजगार की अलख
विजय चंद और उनका परिवार अपनी इस बेटी समान बहु का संसार दोबारा बसा के बेहद खुश है सलाम है समाज में ऐसे सकारात्मक विचारधारा के व्यक्तित्व के लोगो को जो अपनी बहु को बेटी समान सम्मान देते है।
all image showing Alt Text


लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top