Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
Alt= "IIT JEE Uttarakhand topper Pranjal agrawal"

उत्तराखण्ड

देहरादून

आईआईटी जेईई परीक्षा परिणाम घोषित: उत्तराखण्ड में प्रांजल बने टॉपर ऑल इंडिया रैंक 143

Alt= "IIT JEE Uttarakhand topper Pranjal agrawal"

इंजीनियरिंग की प्रतिष्ठित परीक्षा जेईई एडवांस्ड-2019 के परीक्षा परिणाम घोषित कर दिए गए हैं। शुक्रवार को आईआईटी रुड़की के द्वारा आधिकारिक वेबसाइट पर जारी किए गए नतीजो में एम्स की प्रवेश परीक्षा के परिणामों की तरह आईआईटी जेईई में भी प्रदेश के छात्रों ने भी अपनी सफलता का परचम लहराया है। जहां एम्स में उत्तराखंड के टापर देहरादून के अभिनव रहे वहीं आईआईटी जेईई में देहरादून के ही प्रांजल अग्रवाल उत्तराखंड टॉपर बनें है। प्रांजल अग्रवाल ने जेईई एडवास्ड में 263 अंक हासिल कर देशभर में 143वीं रैंक हासिल की है। सुबह से ही लिंक ओपन ना होने की वजह से अभ्यर्थियों को परिणाम देखने के लिए काफी परेशानी का सामना करना पड़ा जिस कारण कल देर रात तक ही उत्तराखंड के युवाओं के शानदार परिणामों का पता चल पाया। वहीं अभी तक प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्तराखंड टॉपर प्रांजल के साथ ही नरेंद्रनगर,टिहरी निवासी सुशील कुमार ने 122 कैटेगरी रैंक प्राप्त की है तो रुपिंदर गोयल ने 247, रोहित शर्मा ने 520, नवीन सैनी ने 1600वीं रैंक हासिल की। इसके अलावा भी प्रदेश से बड़ी संख्या में छात्रों के सफल होने की खबर हैं।




पिता भी है वैज्ञानिक तो प्रांजल वॉयस की-बोर्ड बनाकर दिखा चुके हैं अपना हुनर
आईआईटी जेईई में उत्तराखंड के टापर प्रांजल अग्रवाल बचपन से ही हुनरमंद रहे हैं। ‘होनहार बिरवान के होते चिकने पात’ वाली कहावत को चरितार्थ करते हुए वह छोटी सी उम्र में ही वॉयस की-बोर्ड बना चुके हैं। बता दें कि इस वाइस कीबोर्ड को अब तक दुनिया में एक लाख से अधिक लोग डाउनलोड कर चुके हैं। देहरादून के कालीदास रोड निवासी प्रांजल के पिता डॉं. शिव प्रसाद अग्रवाल भी भारतीय सुदूर संवेदी संस्थान (आइआइआरएस) में वैज्ञानिक है। मूल रूप से उत्तर प्रदेश के आगरा निवासी प्रांजल की मां डॉ. मंजू अग्रवाल एक कुशल गृहणी हैं। कोचिंग के साथ घर पर रोजाना करीब सात घटे पढ़ाई करने वाले उत्तराखंड टापर प्रांजल का कहना है कि उन्होंने 11वीं से ही इस परीक्षा की तैयारिया शुरू कर दी थी। बताते चलें कि उनकी जेईई मेन में 315 अंक के साथ 528वीं रैंक थी। प्राजल के बड़े भाई वरुण अग्रवाल भी 2014 में आइआइटी के लिए चयनित हुए थे आईआईटी गाधीनगर से बीटेक करने के बाद वह वर्तमान में अमेरिका से पीएचडी कर रहे हैं। बाइटलैंड्स से 12 वीं की परीक्षाएं 97.75 अंकों के साथ उप्तीर्ण करने वाले प्रांजल अब आईआईटी दिल्ली या बांबे से कम्प्यूटर साइंस या इलेक्ट्रिानिक्स में इंजीनियरिग करना चाहते हैं।




लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top