Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day

उत्तराखण्ड

चम्पावत

पहाड़ में युवक को भालू ने किया बुरी तरह घायल, आम जनता से लगाई मदद की दरकार



उत्तराखंड में खेती के दुश्मन बन चुके जानवरों का शिकार अब देवभूमि के पर्वतीय इलाकों में रहने वाले लोग बन रहें हैं। अभी तक राज्य के लोग  अपनी फसलों को जानवरों से बचाने के लिए हरसंभव प्रयास करते थे, अधिकांश लोगों ने तो इस नुकसान से परेशान होकर खेती करना ही छोड़ दिया। जगह-जगह दिखाई देते बंजर खेत इसका प्रमाण है। परन्तु अब राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को खुद के साथ-साथ अपने परिवार के सदस्यों के प्राणों को इन जानवरों से बचाने के लिए काफी जद्दोजहद करनी पड़ रही है। जो कि चिंता का विषय है। अब यह कहना ग़लत नहीं होगा कि राज्य में पलायन का प्रमुख कारण लोगों को परेशान करने वाले यह जानवर है।




प्राप्त जानकारी के अनुसार इस बार जानवरों के हमले का शिकार चम्पावत जिले के लोहाघाट विकासखंड का एक ग्रामीण प्रीतम राम हुआ है। नेपाल सीमा से लगे रौसाल क्षेत्र के ग्राम डनगांव निवासी प्रीतम राम अपने बेटे को भालू के हमले से बचाने के लिए भालू से भिड़ गया। बीते बुधवार को भालू के साथ हुए इस संघर्ष में प्रीतम राम गंभीर रूप से घायल हुआ है। घायल प्रीतम राम इस समय बरेली के एक अस्पताल में भर्ती है, और उसके चेहरे, और आंखों में गम्भीर चोटें आई हैं। डां• ने बताया कि प्रीतम राम की जल्द से जल्द प्लास्टिक सर्जरी करनी पड़ेगी। लेकिन परिवार की आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं है कि वह स्वयं इस इलाज का खर्च वहन कर सके। जिसके कारण पारिवारिक सदस्यों सहित क्षेत्र में रहने वाले समाजसेवी व्यक्तियों ने लोगों से मदद की गुहार लगाई है। सोशल मीडिया के माध्यम से की गई इस अपील के साथ घायल प्रीतम राम के पिताजी के पासबुक की फोटोकॉपी भी संलग्न की गई है।




बंता दें कि पिछले बुधवार को सुबह करीब साढ़े नौ बजे, रौसाल क्षेत्र के ग्राम डनगांव निवासी प्रीतम राम(42) पुत्र नाथूराम, अपने बेटे जीवन और सोनू के साथ गायों को लेकर जंगल की ओर जा रहे थें। उनका मझला पुत्र सोनू(15) सबसे आगे चल रहा था। घर से करीब 200 मी• की दूरी पर ही एक भालू उनके पुत्र सोनू की ओर बढ़ा। भालू को अपने पुत्र की ओर बढ़ता देख प्रीतम, अपने बेटे को बचाने के लिए, भालू से भिड़ गए। करीब तीन मिनट तक चले इस संघर्ष में प्रीतम ने साहस का परिचय देते हुए भालू का सामना किया। भालू के साथ चले इस संघर्ष में प्रीतम गंभीर रूप से घायल हो गए, एवं उनके आंखों, चेहरे के साथ-साथ शरीर के कई हिस्सों में चोटें आई हैं। बाद में ग्रामीणों के शोर मचाने पर भालू जंगल की ओर भाग गया। गंभीर रूप से घायल प्रीतम को उनके बेटे जगदीश, सोनू तथा जीवन एवं गांव के कुछ लोग 108 की मदद से घर से 35 किमी• दूर लोहाघाट अस्पताल ले गए। जहां पर प्राथमिक उपचार के बाद घायल प्रीतम की गंभीर हालत को देखते हुए चिकित्सा अधीक्षक डॉ• मंजीत सिंह ने हायर सेंटर हल्द्वानी रेफर कर दिया और हल्द्वानी से भी उसे कहीं अच्छी जगह ले जाने के लिए कहा गया।




घायल प्रीतम राम इस समय बरेली के एक अस्पताल में भर्ती है। और उसकी गंभीर हालत को देखते हुए डॉ• ने उसे जल्द से जल्द प्लास्टिक सर्जरी कराने को कहा है। परिवार की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण प्रीतम और उसका परिवार इतनी महंगी सर्जरी कराने में असमर्थ हैं। जिसके कारण उन्होंने और क्षेत्र के समाजसेवी व्यक्तियों ने सोशल मीडिया के माध्यम से मदद की गुहार लगाई है। आप सभी से हमारा विन्रम निवेदन है कि आप भी पीड़ित की मदद को आगे आकर दयालुता का परिचय दे। आपकी एक छोटी सी मदद पीड़ित के परिवार को बहुत बड़ी सहायता प्रदान कर सकती है। इसलिए जो भी घायल प्रीतम की आर्थिक रूप से मदद करना चाहते हैं वो घायल प्रीतम के पिता के खाते में स्वेच्छा से पैसे भेज सकते हैं।
खातेदार का नाम- नाथ राम पुत्र श्री बची राम
खाता नंबर — 002534008100050
IFSC- IBKL 0768PJS
बैंक – पिथौरागढ़ जिला सहकारी बैंक किमतोली लोहाघाट।




लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top