Connect with us
Uttarakhand Government Coronavirus donate Information

उत्तराखण्ड

उत्तराखण्ड विशेष तथ्य

पिथौरागढ़

उत्तराखण्ड में विराजमान हैं, एक अद्भुत पर्वत ,जहाँ प्राकृतिक रूप से बनता है ॐ



पौराणिक समय से ही उत्तराखण्ड को देवभूमि के नाम से जाना जाता है। जगह-जगह दिखाई देने वाले भांती-भांती के मंदिर, हरे-भरे पेड़ों से आच्छादित ऊंचे-ऊंचे पर्वत शिखर, गंगा- यमुना जैसी पवित्र नदियाँ तथा समय-समय पर प्रकाश में आने वाली विभिन्न गुफाएं इस बात को प्रमाणित भी करती हैं कि उत्तराखण्ड पुरातन काल से ही ऋषियों, तपस्वीयों तथा देवताओं की पावन भूमि रही हैं। वेद पुराण एवं रामायण, महाभारत जैसे न जाने कितने धार्मिक ग्रंथों में भी इस बात का प्रमाण मिलता है। प्राचीन पौराणिक ग्रंथों में कहा गया है की , पूरे विश्व में आठ स्थानों पर प्राकृतिक रूप से ॐ बना हुआ है , इनमे से अभी तक सिर्फ कैलाश मानसरोवर पर बने ॐ को ही ढूढ़ा जा सका है।




यह भी पढ़े-न्याय के देवता : घंटिया उन सभी लोगो की मनोकामना पूर्ण होने का ही एक सूचक है, जिनकी अर्जिया सुनली गयी
आज हम आपको हिमालय में बसे एक ऐसे पर्वत से रूबरू कराएंगे जिसमें प्राकृतिक रूप से ॐ बना हुआ हैं। भारत और नेपाल की सीमा में और 6191 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस बर्फीले पर्वत में ॐ को नग्न आंखों से भी देखा जा सकता है। पश्चिमी नेपाल के दरचुला जिले और उत्तराखण्ड के पिथौरागढ़ जिले में स्थित हिमालय पर्वतमाला में यह पर्वत आता है। कैलाश मानसरोवर यात्रा के दौरान पड़ने वाले इस पर्वत को, ॐ की आकृति के कारण इसे ॐ (ओम) पर्वत के नाम से जाना जाता है।
अमरनाथ की तरह गिरती है बर्फ:
जिस तरह जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में स्थित भगवान शिव के पवित्र धाम अमरनाथ में बर्फ से शिवलिंग का निर्माण कुदरत के द्वारा होता है। वैसे ही ओम पर्वत पर बर्फ कुछ इस तरह गिरती है कि वहां ॐ का निर्माण प्राकृतिक रूप से होता है। तीर्थयात्री बताते हैं कि जिस वर्ष हिमालय का मोसम जितना साफ रहता है, उस वर्ष ॐकी छवि उतनी सुंदर दिखाई देती है।
कैसे हुई ॐ पर्वत की खोज:
ॐ पर्वत की खोज बड़े ही रोचक ढंग से हुई। जिसे पढ़कर आप भी हैरान हो जाएंगे। ओम पर्वत की खोज 1981 में टीआरसी प्रबंधक विपिन पांडे के द्वारा हुई। उस समय विपिन पांडे 24 वर्ष के थे और कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जा रहे थे। नाभीढांग में विश्राम के दौरान जब वो टैंट में थे, तो सुबह के समय पूरा आसमान बादलों से घिरा हुआ था। लेकिन हैरानी की बात थी कि ऊं आकृति वाले इस पर्वत पर एक भी बादल नहीं थे। पौ फटते ही सूर्य की किरणें जैसे ही पर्वत पर पड़ी तो उस पर बना ॐशब्द चमक उठा। इसके बाद भी उन्हें इस पर्वत को नाम से खोजने के लिए बहुत शोध करने पड़े। तब जाकर कहीं यह पर्वत, ॐ पर्वत के नाम से विश्व मानचित्र पर उभरा।




कैलाश मानसरोवर के बाद है सबसे पवित्र एवं धार्मिक स्थल
पश्चिम नेपाल के दरचुला जिले तथा उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले के मध्य स्थित ॐ पर्वत को आदि कैलाश, छोटा कैलाश, बाबा कैलाश और जोंगलिंगकोंग आदि नामों से भी जाना जाता है। इस पर्वत पर ॐ भारत की ओर दिखाई देता है, जबकि इसका पृष्ठ भाग नेपाल की ओर पड़ता है। इस पर्वत में ॐ के दर्शन कैलाश मानसरोवर यात्री लिपुलेख दर्रे के शिविर से कर सकते हैं। सूर्य की पहली किरणें जब कैलाश पर्वत पर पड़ती हैं, तो यह पूर्ण रूप से सुनहरा हो जाता है। इतना ही नहीं, कैलाश मानसरोवर यात्रा के दौरान आपको पर्वत पर बर्फ़ से बने साक्षात स्वर्णिम ‘ॐ’ के दर्शन हो जाते हैं। कई यात्री ॐ पर्वत के दर्शन के लिए नाभिधांग कैंप के रास्ते से जाते हैं। जहां हिन्दु धर्म में ॐपर्वत यात्रा को कैलाश मानसरोवर यात्रा के बाद सबसे प्रमुख व पवित्र यात्रा माना गया है, वहीं बोद्ध धर्म एवं जैन धर्म में भी इसे विशेष धार्मिक महत्व का स्थान माना गया है। कैलाश मानसरोवर की यात्रा में हर कदम बढ़ाने पर दिव्यता का अहसास होता है। ऐसा लगता है मानो एक अलग ही दुनिया में आ गए हों। मान्यता के अनुसार, जो व्यक्ति मानसरोवर (झील) की धरती को छू लेता है, वह ब्रह्मा के बनाये स्वर्ग में पहुंच जाता है और जो व्यक्ति झील का पानी पी लेता है, उसे भगवान शिव के बनाये स्वर्ग में जाने का अधिकार मिल जाता है।

ॐ पर्वत कैलाश मानसरोवर यात्रा के दौरान कुछ ऐसा दिखता है। फोटो सौजन्य



यह भी पढ़ेउत्तराखण्ड के पाताल भुवनेश्वर गुफा में है कलयुग के अंत के प्रतीक
ॐपर्वत को छोटा कैलाश तो इसके समीपवर्ती पार्वती सरोवर को मानसरोवर झील के समतुल्य माना जाता है। पार्वती सरोवर को गौरी कुण्ड के नाम से भी जाना जाता है, मान्यताओं के अनुसार यहां मां पार्वती स्नान करती थीं। इसलिए यहां की यात्रा पर आने वाली महिलाएं इस गौरी कुंड के पवित्र जल में स्नान कर अनेक कष्टों से मुक्ति पाती हैं। ओम पर्वत एवं यहां की तीर्थयात्रा का वर्णन पुराणों में भी मिलता है। वृहद विष्णु पुराण में लिखा है कि यह स्थान देवों के देव महादेव को अत्यंत प्रिय रहा है। पौराणिक कथाओं में भी इस पवित्र स्थल के महत्व का विस्तृत वर्णन मिलता है। पुराणों में कहा गया है कि विश्व में आठ स्थानों पर प्राकृतिक रूप से ऊं बना हुआ है। परंतु अभी तक एकमात्र इसी ओम पर्वत को ढूंढा जा सका है। जहां ॐ को स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है।
सुनाई देती है ॐ की ध्वनि : कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जा चुके यात्रियों के अनुसार इस पर्वत के दर्शन से अलोकिक शांति की अनुभूति होती है। यहां ॐके दर्शन के साथ-साथ ॐकी ध्वनि भी स्पष्ट रूप से सुनाई देती है। इससे शरीर में एक अद्भुत एवं सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है जो पूरे मन एवं मस्तिष्क को आध्यात्मिकता से भर देती है, और नास्तिक को भी आस्तिक बना देती है।




यह भी पढ़ेइन अलौकिक शक्तिओ की वजह से कहा जाता है माँ धारी देवी को उत्तराखण्ड की रक्षक और पालनहार
बरकरार है प्रयास, धार्मिक महत्व के कारण कोई नहीं पा सका है फतह
पर्वतारोहियों के ऊं पर्वत पर फतह के प्रयास जारी है, लेकिन धार्मिक महत्व का सम्मान करते हुए कोई भी इस पर्वत को जीत नहीं पाया, जो कि एक अच्छी बात है। सबसे पहला प्रयास भारतीय दल ने ब्रिटिश पर्वतारोहियों के साथ मिलकर किया था। धार्मिक मान्यताओं का सम्मान करते हुए इस दल ने चोटी से 30 फीट नीचे रूकने का फैसला किया था, परंतु वे यहां तक भी नहीं पहुंच पाए और खराब मौसम की वजह से उन्हें शिखर से 660 फीट नीचे से ही वापस लोटना पड़ा। 8 अक्टूबर 2008 को एक दूसरे दल ने चोटी को फतह करने का सफल प्रयास किया, यहां उन्होंने पर्वत के प्रति अपना सम्मान दिखाया और शिखर से कुछ मीटर नीचे से वापस आ गए।




लेख – सुनील चंद्र खरकवाल ( पिथौरागढ़)
उपरोक्त लेख विभिन्न ऑनलाइन स्रोतों, पुस्तकों, और मेरे अपने अनुभवों के तथ्यों पर आधारित है।

लेख शेयर करे

Comments

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

VIDEO

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

RUDRAPRAYAG : DM VANDANA CHAUHAN

Advertisement
To Top