Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="pinky rawat kashipur"

उत्तराखण्ड

ऊधमसिंह नगर

उत्तराखण्ड: पिंकी हत्या कांड का मकसद सिर्फ हत्या था…या फिर लूट “क्या है पूरे 45 मिनट की वारदात”??

alt="pinky rawat kashipur"बढ़ते हुए अपराधों के बीच देवभूमि उत्तराखण्ड इस कदर घिर चुकी है कि एक मासूम बेटी को सरेआम मौत के घाट उतार दिया गया। जी हां हम उसी मामले की बात कर रहे हैं जिसने सोशल मीडिया पर तूल पकड़ लिया है। सोशल मीडिया पर तो लोगों द्वारा अपराधी को सरेराह गोली मारने की मांग भी पुलिस प्रशासन से की जा रही है। काशीपुर में दिनदहाड़े हुई इस घटना से जहां पुलिस प्रशासन के होश उड़े हुए हैं वहीं जनता में भी खासा आक्रोश है। इन सबके बीच अभी तक पुलिस को एक ऐसे सवाल ने उलझा रखा‌ है जिसका उत्तर जानना हम सभी के लिए टेड़ी खीर साबित हो रहा है। और वह सवाल है कि पिंकी हत्याकांड में पिंकी की हत्या इरादतन की गई। या फिर इसमें हत्यारों का मकसद केवल शोरूम में लूट करना था, जिसमें पिंकी की हत्या लूटेरों द्वारा गैर‌इरादतन की गई। यही वह अहम सवाल है जिसने अभी तक पुलिस को सबसे ज्यादा उलझा रखा है। अर्थात पिंकी की हत्या की कहानी केवल 45 मिनट की है या हत्यारे पहले से ये प्लान करके आए थे?





गौरतलब है कि राज्य के काशीपुर में गिरिताल रोड स्थित मोबाइल शोरूम पर कार्यरत सेल्स गर्ल की शुक्रवार को दिनदहाड़े चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई। इतना ही नहीं हत्यारे शोरूम से डेढ़ लाख कीमत के 11 मोबाइल भी अपने साथ ले गए। सेल्स गर्ल की पहचान पौड़ी जिले के धुमाकोट तहसील के ग्राम दिगौलीखाल निवासी पिंकी रावत पुत्री मनोज रावत के रूप में की गई है, जो पिछले तीन माह से इस शोरूम में काम कर रही थी। बताया गया है कि वह मानपुर रोड पर आरके पुरम कॉलोनी में चंदन सिंह के मकान में अपने भाई प्रवीण रावत के साथ किराए पर रहती थी। पिंकी की हत्या शोरूम में उस समय की ग‌ई जब वह अकेली थी। घटना द मोबाइल वर्ल्ड भूमिका इंटरप्राइजेज नामक मोबाइल के शोरूम की है जो गाजियाबाद निवासी मनीष चावला का बताया गया है। शोरूम के मालिक का कहना है कि करीब 11:55 बजे पिंकी ने उन्हें पहली बार फोन कर बताया कि दुकान पर कोई ग्राहक आया है और मोबाइल का रेट पूछ रहा है। इस पर उन्होंने मोबाइल का रेट बताया।




पिंकी ने दुबारा किया मनीष को फोन और उसके बाद मिला खून से लथपथ शव-: करीब 12:21 मिनट पर पिंकी ने दुबारा फोन करते हुए पावर बैंक का दाम पूछा। इस पर उन्होंने दाम बताते हुए कुछ ही देर में शोरूम पहुंचने की बात कही। परन्तु करीब 20 मिनट बाद जब वह दुकान में पहुंचे तो उन्हें पिंकी का खून से लथपथ शव जमीन पर पड़ा मिला। जिस पर उन्होंने पुलिस को इस वारदात की सूचना दी। कुल मिलाकर यह वारदात 11:55 से 12:40 के बीच करीब 45 मिनट में घटी, जिनमें से 12:21 तक पिंकी सही सलामत थी। डाक्टरों द्वारा बताया गया है कि हत्यारे ने पिंकी के शरीर में आठ बार धारदार हथियार से तब तक वार किए जब तक उसकी सांस थम नहीं गई, इससे तो लग रहा है कि उसने पिंकी की हत्या बदला लेने के लिए की थी। परंतु जो कहानी शोरूम के मालिक द्वारा बताई गई है उससे पुलिस को ऐसा बिल्कुल भी नहीं लगरा।




लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top