Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="Indian army image rahul kainswal"

उत्तराखण्ड

चम्पावत

उत्तराखण्ड का लाल पुलवामा में आतंकियों से मुठभेड़ में हुआ शहीद पहाड़ में दौड़ी शोक की लहर

राज्य के चम्पावत जिले का रहने वाले हैं मुठभेड़ में शहीद हुए राहुल रैंसवाल
alt="Indian army image rahul kainswal"

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के अवंतीपोरा से अभी-अभी एक दुखद खबर आ रही है जहां भारतीय सेना और आतंकियों के बीच जारी मुठभेड़ में राज्य के चम्पावत जिले के राहुल रैंसवाल शहीद हो गए। बता दें कि इन दिनों कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा आपरेशन आल आउट चलाया जा रहा है। इस आपरेशन के दौरान भारतीय सेना ने पिछले चौबीस घंटों में पांच-छह आतंकवादियों को मार गिराया है। बताया गया है कि अंवतीपोरा में अभी भी कुछ आतंकवादी छुपे हुए हैं। आज दिन में भारतीय सेना एवं जम्मू-कश्मीर पुलिस के द्वारा जारी इस आपरेशन में तीन आतंकवादियों को मार गिराया। लेकिन आतंकवादियों एवं सुरक्षाबलों के बीच हुई मुठभेड़ में सेना के एक जवान और जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक एसपीओ शाहबाज अहमद शहीद हो गए। बताया गया है कि मारे गए सभी आतंकी जैश ए मुहम्मद आतंकी संगठन से जुड़े थे। राहुल के मुठभेड़ में शहीद होने की खबर से उनके परिवार में कोहराम मचा हुआ है। बताते चलें कि शहीद का बड़ा भाई राजेश रैंसवाल भी 2009 से फौज में है। और इस वक़्त 15 कुमाऊं में लखनऊ में तैनात है।





प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से राज्य के चम्पावत जिले के तल्लादेश के रियासीबमन गांव निवासी एवं वर्तमान में चम्पावत जिले के कनलगाव में रहने वाले राहुल रैंसवाल आज दोपहर सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच हुई मुठभेड़ में शहीद हो गए। बता दें कि दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के अवंतीपोरा तहसील के खिरयू क्षेत्र में आतंकवादियों के साथ सुरक्षाबलों की मुठभेड़ उस समय शुरू हुई जब सीआरपीएफ, एसओजी और सेना के जवान क्षेत्र में सर्च आपरेशन जारी रखे हुए थे। बताया गया है कि सर्च आपरेशन के दौरान सुरक्षा बलों को सूचना मिली कि क्षेत्र में तीन आतंकी देखे गए हैं। इस मुठभेड़ में भारतीय सेना ने तीन आतंकवादियों को मार गिराया। लेकिन इस मुठभेड़ में सेना के जवान राहुल सहित जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक एसपीओ गम्भीर रूप से घायल हो गए और बाद में वीरगति को प्राप्त हो गए। बताते चलें कि शहीद जवान राहुल भारतीय सेना की 18 कुमाऊं (अभी 50 आरआर) में तैनात थे और वर्तमान में उनकी पोस्टिंग जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में थी। 25 वर्षीय राहुल 2012 में फौज में भर्ती हुआ था। जवान के शहीद होने की खबर मिलते ही जहां राहुल के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है वहीं पूरे क्षेत्र में भी मातम छाया हुआ है।

यह भी पढ़ें- आखिर क्यों: अखबार के एक टुकड़े तक सिमट कर रह गई उत्तराखण्ड के जवान के लापता होने की खबर?



लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top