Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="uttarakhand devesh in Indian navy"

उत्तराखण्ड

पौड़ी गढ़वाल

उत्तराखण्ड का बेटा देवेश बना भारतीय नौसेना में लेफ्टिनेंट…. पहाड़ में भी दौड़ी खुशी की लहर

alt="uttarakhand devesh in Indian navy"

बात भारतीय सेना में तैनात वीर जवानों की की जाएं और उसमें सैन्य धाम उत्तराखंड का नाम ना आए ऐसा कभी नहीं हो सकता। हम यह बात इसलिए कह रहे हैं क्योंकि भारतीय सेना में वीर जवान देने के हिसाब से आज भी उत्तराखंड पूरे देश में पहले नंबर पर आता है। आज हम आपको एक ओर ऐसे ही वीर जवान से रूबरू करा रहे हैं जिनका चयन भारतीय नौसेना की स्कूटिव शाखा में सब लेफ्टिनेंट पद पर हुआ है। जी हां.. हम बात कर रहे हैं राज्य के पौड़ी गढ़वाल जिले के रहने वाले देवेश अविरल देवरानी। जिनके कंधों पर शनिवार को भारतीय नौसेना अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी एडिमाला (केरल) में आयोजित पासिग आउट परेड (पीओपी) के बाद स्टार लगाए। बता दें कि लेफ्निनेंट देवेश एक ‌सैन्य परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उनके पिता लेफ्टिनेंट कर्नल कैलाश देवरानी सेना चिकित्सा कोर में कार्यरत हैं, जबकि उनकी बड़ी बहन दीक्षा देवरानी सेना की जज एडवोकेट जनरल शाखा में लेफ्टिनेंट के पद पर कार्यरत हैं।




प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य के पौड़ी गढ़वाल जिले के डुंडेख ग्राम निवासी देवेश अविरल देवरानी ने शनिवार को भारतीय नौसेना की स्कूटिव शाखा में सब लेफ्टिनेंट पद पर चयनित होकर उत्तराखंड ‌को एक बार फिर ‌गौरवान्वित होने का अवसर प्रदान किया है। बता दें कि शनिवार को भारतीय नौसेना अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी एडिमाला (केरल) में आयोजित पासिग आउट परेड (पीओपी) के बाद परिजनों ने देवेश के कंधों पर स्टार लगाए। इस शुभअवसर पर देवेश के पिता लेफ्टिनेंट कर्नल कैलाश देवरानी, माता चंद्रकला देवरानी, बहन दीक्षा देवरानी और दिशा देवरानी मौजूद थे। सैन्य परिवार से ताल्लुक रखने वाले देवेश ने अपनी इस सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और गुरुजनों को दिया है। बताते चलें कि देवेश की छोटी बहन दिशा देवरानी दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक के साथ-साथ सिविल सर्विसेज की तैयार कर रही हैं। क्षेत्रवासियों का कहना है कि देवेश की इस सफलता ने पूरे उत्तराखंड का गौरव बढ़ाया है।




लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top