Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day

उत्तराखण्ड बुलेटिन

देहरादून

उत्तराखण्ड के युवा आशीष पोखरियाल ने दिल्ली मे चलाया भलस्वा झील बचाओ अभियान




दिल्ली के उत्तर-पश्चिम जिले की सबसे मशहूर भलस्वा (मोती झील) झील बीते कई वर्षो से बदहाली की मार झेल रही है। झील जो की 700 मीटर लम्बी व 500 मीटर चौड़ी हैं,  के चारों ओर इतनी गंदगी है की उसमे खरपतवार उग आए हैं। इतना ही नहीं झील के बीचों बीच कभी जहाँ गहरा साफ सुथरा पानी हुआ करता था, वहां आज लंबी-लंबी घास और झाडिय़ां उग आयी हैं। झील सूखने के कारण अब कुछ ही जगहों पर पानी दिखाई देता है। वही प्रशासनिक अनदेखी के कारण इस झील का अस्तित्व समाप्त होता दिखाई दे रहा है। झील एक समय इलाके के लोगों और बाहर से आने वाले पर्यटकों के लिए आकर्षण का केन्द्र हुआ करती थी। मौजूदा हालत यह है कि इस क्षेत्र में कोई भी फटकने को तैयार नहीं है। कूड़े के ढेर से पटी हुई झील लगातार गायब होती जा रही है। इस झील में जंगली जीव, जलीय पक्षी, सारस आदि आकर्षण का केंद्र हुआ करते थे। जो गंदगी होने के कारण अब बहुत कम ही दिखाई पड़ते हैं।




यह भी पढ़ेपर्यावरण प्रेमी -पहाड़ के चन्दन नयाल ने किया अपने को पर्यावरण संरक्षण के लिए समर्पित
उत्तराखण्ड के युवा और एबीवीपी के छात्रों ने चलाया भलस्वा झील बचाओ अभियान – अगर बात करे आम इंसान की मानसिकता की तो किसी भी गंदगी वाले स्थल को देख कर यही कहता है ” मै इसकी सफाई का बीड़ा क्यों उठाऊ इसमें मेरा क्या फायदा ” लेकिन इस संकीर्ण मानसिकता से ऊपर उठकर उत्तराखण्ड के युवा आशीष पोखरियाल ने बिना किसी स्वार्थ के दिल्ली की इस मशहूर झील को साफ करने का संकल्प लिया। बता दे की मशहूर भलस्वा झील का अस्तित्व समाप्त होते देख और इस मामले में प्रशासनिक अनदेखी को देखते हुए उत्तराखण्ड के युवा आशीष पोखरियाल , अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्रों व केनोकोइंग बोट क्लब की सहायता से इस सफाई अभियान का बीड़ा उठाया गया। आशीष पोखरियाल जो की दिल्ली प्रान्त के सह प्रमुख है ,और वर्ष 2012 से एबीवीपी से जुड़े है। आशीष पोखरियाल और उनकी टीम 6 महीने से इस सफाई अभियान मे लगी हुई है, और अभी काफी हद तक झील साफ़ हो चुकी है। इस अभियान के लिए जिनका विशेष सहयोग व योगदान रहा उनमे एसएफडी के राष्ट्रीय सयोंजक आदित्य कुमार , मनु कटारिया पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ,दिव्यांशु सिंह रोहिणी (विभाग प्रमुख एसएफडी ) व हिमांशु यादव ( कोच- केनोकोइंग बोट क्लब) है।





सफाई अभियान की झलक आप खुद फोटो मे देख सकते हैं।




 

दाये से सबसे आगे प्रान्त सह प्रमुख आशीष पोखरियाल सफाई अभियान का मोर्चा संभालते हुए…




सफाई मे जुटे आशीष पोखरियाल व स्थानीय लोग …




यह भी पढ़े –अल्मोड़ा महोत्सव में संकल्प खेतवाल और मोनाली ठाकुर ने बिखेरा अपनी आवाज का जादू
देवभूमि दर्शन मीडिया से खाश बात चित उत्तराखण्ड के युवा हमेशा से ही पर्यावरण संरक्षण मे अपना अमूल्य योगदान देते आये हैं और एक बार फिर उत्तराखण्ड के जिला पौड़ी ,तहसील थैलीसैण के कर्मठ युवा आशीष पोखरियाल ने दिल्ली मे सफाई अभियान चला के प्रदेश का नाम भी रोशन किया हैं। आशीष पोखरियाल बताते हैं की उन्हें अपने उत्तराखण्ड के शिक्षा ,स्वास्थ्य और मुख्यतः पहाड़ो से पलायन रोकने के सन्दर्भ मे भी कार्य करना हैं इसके साथ ही आजकल उत्तराखण्ड मे गायो के लिए गौशाला खोलने की मुहीम भी वो चलाने जा रहे हैं। आशीष ने बताया की अभी उनका कार्य प्रगति पर हैं लेकिन छह महीने के भीतर ही झील पहले से काफी साफ़ हो चुकी हैं।

लेख शेयर करे
Continue Reading
You may also like...

More in उत्तराखण्ड बुलेटिन

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top