Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
Tunnel will be built on All Weather Road in pithoragarh district of Uttarakhand on the lines of Jammu and Kashmir

उत्तराखण्ड

पिथौरागढ़

जम्मू कश्मीर के तर्ज पर ही उत्तराखंड के इस जिले में ऑल वेदर रोड पर बनेगी टनल

Tunnel In pithoragarh: अब उत्तराखंड में भी दिया जा रहा सतत विकास पर जोर, वनों के अंधाधुंध कटान को रोकने के लिए पिथौरागढ़ जिले में आल वेदर रोड बाईपास मार्ग पर सुरंग का निर्माण कर बनाई जाएगी सड़क..

समूचा उत्तराखण्ड इन दिनों विकास के पथ पर अग्रसर है। राज्य में जहां एक ओर सड़कों और रेलवे लाइनों का जाल बिछाया जा रहा है वहीं दूसरी ओर हवाई सेवाओं को भी पंख लग रहे हैं। बात अगर सड़क और रेलवे लाइन की करें तो जहां यह संपर्क जोड़ने का बेहतरीन साधन है वहीं इनके निर्माण कार्य के दौरान अत्यधिक संख्या में वृक्षों के कटान से पर्यावरण का भी काफी नुकसान होता है। परंतु अब वृक्षों को कटान से बचाने के लिए कार्यदाई संस्थाएं सुरंग का सहारा ले रही हैं। जिससे दूरस्थ क्षेत्रों का विकास भी हो सके और पर्यावरण को नुकसान भी ना हों। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट आल वेदर रोड के निर्माण में भी इसी तकनीक का सहारा लिया जा रहा है। जी हां.. पिथौरागढ़ में जंगल बचाने के लिए प्रस्तावित आल वेदर रोड बाईपास मार्ग पर अब जम्मू-कश्मीर की तर्ज पर सुरंग बनाई जाएगी। इससे पहाड़ पर पेड़ों को बिना नुकसान पहुंचाए चीन सीमा तक लोग पहुंच सकेंगे। यह बाईपास पिथौरागढ़ जिले के ऐचोली से सातशिलिंग तक बनाया जाना प्रस्तावित है।
(Tunnel In pithoragarh)
यह भी पढ़ें- उत्तराखंड में बनेगी देश की सबसे लंबी डबल अत्याधुनिक टनल लेन सुरंग, निर्माण कार्य हुआ शुरू

प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य के पिथौरागढ़ जिले के ऐचोली से सातशिलिंग तक प्रस्तावित आल वेदर रोड बाईपास मार्ग का निर्माण सुरंग के सहारे किया जाएगा। इससे जहां जंगलों के कटान का विकल्प मिल गया है वहीं पहाड़ को सतत विकास का एक नया माध्यम भी मिल गया है। बताया गया है कि बाईपास में पडऩे वाले वन क्षेत्र के समीप से टनल बनाकर सड़क तैयार की जाएगी। बता दें कि प्रस्तावित बाईपास मार्ग पर सबसे अधिक वन क्षेत्र बिसाड़ और मसपाटी में आ रहा है। इसी कारण मसपाटी और बिसाड़ क्षेत्र के जंगलों को बचाने के लिए सुरंग बनाकर सड़क निर्माण किया जाएगा। जिससे जहां जंगल सुरक्षित रहेगा, वहीं नाप भूमि भी सुरक्षित रहेगी। बताते चलें कि सुरंग निर्माण का सर्वे भी कर लिया गया है। जिसकी रिपोर्ट सड़क परिवहन मंत्रालय के साथ ही पर्यावरण मंत्रालय को भी भेजी जा चुकी है। हालांकि मंत्रालय से हरी झंडी मिलने के बाद ही सुरंग निर्माण की कवायद शुरू हो पाएगी।
(Tunnel In pithoragarh)

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: ट्रैफिक जाम से मिलेगा छुटकारा, मसूरी में 4.5किमी टनल निर्माण कार्य का होगा शिलान्यास

देवभूमि दर्शन के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top