Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="sneha adhikari scientist"

अल्मोड़ा

उत्तराखण्ड

उत्तराखण्ड :कृषि अनुसंधान केंद्र की परीक्षा उत्तीर्ण कर पहाड़ की बेटी स्नेहा बनी वैज्ञानिक

alt="sneha adhikari scientist"देवभूमि उत्तराखंड को प्रतिभाओं की जननी कहना कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी क्योंकि आज राज्य की उभरती प्रतिभाओं ने देश-विदेश में ऊंचे-ऊचे मुकामों को हासिल किया है। उत्तराखण्ड की बेटियाँ आज अपने बुलंद हौसलों और आत्मविश्वास से समाज का एक ऐसा आइकन बन चुकी है, जो देश के समक्ष समूचे प्रदेश को स्वाभिमान और गर्व की अनुभूति कराता है। आज हम आपको एक बार फिर राज्य की एक ऐसी ही बेटी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने राष्ट्रीय स्तर पर आधारित चयन प्रक्रिया में पूरे देश में दुसरा स्थान प्राप्त किया है। जी हां… हम बात कर रहे हैं राज्य के अल्मोड़ा जिले के चौखुटिया की रहने वाली स्नेहा (सीमा) अधिकारी की जिन्होने एग्रीकल्चर साइंटिस्ट रिक्रूटमेंट बोर्ड कृषि अनुसंधान केंद्र नई दिल्ली की ओर से आयोजित राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित चयन प्रक्रिया में पूरे देश में दूसरी रैंक हासिल कर राज्य का मान बढ़ाया है। अब वह हैदराबाद में होने वाले आगामी तीन माह के प्रशिक्षण के बाद एक कृषि वैज्ञानिक की जिम्मेदारी संभालते हुए नजर आएंगी। स्नेहा की इस अभूतपूर्व उपलब्धि से उनके गृहक्षेत्र में खुशी का माहौल है। बता दें कि चयन परीक्षा में दूसरी रैंक हासिल कर राज्य का नाम रोशन करने वाली स्नेहा के पिता लक्ष्मण सिंह अधिकारी एक दुकानदार है जबकि उनकी माता खष्टी अधिकारी एक कुशल गृहणी हैं।



वैज्ञानिक बनने वाली चौखुटिया घाटी की पहली बेटी हैं: मूल रूप से राज्य के अल्मोड़ा जिले के चौखुटिया के जुकानौली गांव निवासी स्नेहा अधिकारी अब जल्द ही बतौर कृषि वैज्ञानिक एक बड़ी जिम्मेदारी संभालेंगी। बताते चलें कि स्नेहा ने अपनी प्रारंभिक एवं माध्यमिक शिक्षा चौखुटिया से ही प्राप्त की है। जीआईसी चौखुटिया से इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद स्नेहा ने कृषि विश्वविद्यालय पंतनगर से एग्रीकल्चर में बीएससी और एमएससी किया। इसके बाद एक कृषि वैज्ञानिक बनने का लक्ष्य रखने वाली स्नेहा ने मार्च 2018 में एग्रीकल्चर साइंटिस्ट रिक्रूटमेंट बोर्ड कृषि अनुसंधान केंद्र नई दिल्ली की ओर से आयोजित प्री परीक्षा में ‌सफल होने के बाद जून 2018 में मुख्य परीक्षा दी थी। मुख्य परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के बाद स्नेहा का पिछले माह 11 जून को साक्षात्कार हुआ था। जिसके बाद घोषित मेरिट लिस्ट में स्नेहा ने पूरे देश में दूसरा स्थान हासिल किया है। क्षेत्रवासियों का कहना है कि स्नेहा कृषि वैज्ञानिक बनने वाली चौखुटिया घाटी की पहली बेटी हैं।
यह भी पढ़े उत्तराखण्ड की बेटी मोनिका राणा भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र में बनी वैज्ञानिक




लेख शेयर करे

More in अल्मोड़ा

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top