Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day

अल्मोड़ा

उत्तराखण्ड

उत्तराखंड: लमगड़ा के हेमंत बिष्ट चयनित हुए एनडीए के लिए बनेंगे सैन्य अफसर

Hemant Bisht NDA: लमगड़ा ब्लॉक जैंती निवासी हेमंत बिष्ट चयनित हुए एनडीए के लिए बढ़ाया प्रदेश का मान

उत्तराखंड में होनहार युवाओं के कमी नहीं है । सरकारी, गैर सरकारी तथा सैन्य क्षेत्र में यहां के युवा उच्च पदों पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इसी कड़ी में एक नाम हेमंत बिष्ट का भी जुड़ने जा रहा है । जिनका चयन एनडीए के लिए हो गया है । बता दें कि हेमंत बिष्ट मूल रूप से अल्मोड़ा जिले के लमगड़ा ब्लॉक के जैती क्षेत्र के सिल्पड गांव के निवासी हैं। वर्तमान में हेमंत का परिवार देहरादून जिले के नई बस्ती क्लेमेनटाउन मे रहता है। बताते चलें कि हेमंत की 12वीं तक की पढ़ाई आर्मी पब्लिक स्कूल क्लेमेनटाउन देहरादून से पूर्ण हुई है। वर्तमान में हेमंत बिष्ट एसजीआरआर पीजी कॉलेज से बीएससी प्रथम वर्ष की पढ़ाई कर रहे हैं इसी दौरान हेमंत ने एनडीए की परीक्षा उत्तीर्ण की है। हेमंत बचपन से ही मेधावी छात्र रहे हैं 10वीं तथा 12वीं में हेमंत ने 94% अंक हासिल किए थे।
Hemant Bisht NDA almora Uttarakhand

मेधावी छात्र होने के साथ ही हेमंत बास्केटबॉल के खिलाड़ी भी रह चुके हैं। कमांड लेवल के चैंपियन होने के साथ ही हेमंत आर्मी पब्लिक स्कूल मे स्पोर्ट्स कैप्टन भी रह चुके हैं। सबसे खास बात तो यह है कि हेमंत की बड़ी बहन हिमानी बिष्ट भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट के पद पर तैनात हैं। दिसंबर 2022 में हिमानी को अपने पद पर तैनाती मिली। हेमंत की दूसरी बहन भी भारतीय सेना के लिए तैयारी कर रही है।(Hemant Bisht NDA)
Hemant bisht NDA almora Uttarakhand
यह भी पढ़िए: उत्तराखंड: लमगड़ा की हिमानी बिष्ट सेना में बनीं लेफ्टिनेंट, प्रदेश को किया गौरान्वित

हेमंत के पिता ध्यान सिंह बिष्ट द्वारा देवभूमि दर्शन को दी गई जानकारी के अनुसार सैन्य परिवार से ताल्लुक रखने वाले हेमंत बिष्ट के पिता ध्यान सिंह बिष्ट भारतीय सेना मे 17वी जैक राइफल्स मे हवलदार के पद से सेवानिवृत्त हो चुके हैं तथा माता बैजंती बिष्ट कुशल ग्रहणी है। वर्तमान में हेमंत के पिता ठेकेदारी प्रथा के अधीन सर्वे ऑफ इंडिया में कार्यरत हैं। अपने पिता तथा बड़ी बहन के नक्शे कदम पर चलते हुए हेमंत बिष्ट भी अब एनडीए का प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद सेना में अफसर बन जाएंगे। हेमंत की इस उपलब्धि से उनके परिजनों तथा गांव में खुशी का माहौल है तथा बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है। अपने बच्चों की इतनी बड़ी उपलब्धि से ध्यान सिंह बिष्ट गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।


देवभूमि दर्शन से हुई खास बातचीत में उनके पिता ध्यान सिंह बताते हैं कि अपने सेवाकाल के दौरान उन्होंने भी अपने पलटन में बेहतरीन कार्य किए हैं जिस कारण वर्ष 2006 में उन्हें यूएनओ भेजा गया। इंस्ट्रक्टर के ग्रेडिंग लेने के कारण ध्यान सिंह इन्फेंट्री स्कूल मे हवलदार इंस्ट्रक्टर के पद पर भी कार्य कर चुके हैं। अपने बेहतरीन कार्य के लिए हवलदार ध्यान सिंह को वर्ष 2010 में बेस्ट हवलदार इंस्ट्रक्टर के लिए चुना गया तथा प्रशंसा पत्र से भी नवाजा गया। ध्यान सिंह जी का कहना है कि सेवानिवृत्त होने के बाद भी वे सैन्य क्षेत्र से काफी लगाव रखते हैं।

उत्तराखंड की सभी ताजा खबरों के लिए देवभूमि दर्शन के WHATSAPP GROUP से जुडिए।

उत्तराखंड की सभी ताजा खबरों के लिए देवभूमि दर्शन के TELEGRAM GROUP से जुडिए।

👉👉TWITTER पर जुडिए।

लेख शेयर करे

More in अल्मोड़ा

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top