Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day

उत्तराखण्ड

चम्पावत

उत्तराखण्ड के एक विधायक ऐसे भी कोरोना महामारी से लड़ने के लिए देंगे अपने दो साल का वेतन

uttarakhand: अपने दो वर्ष के पूरे वेतन से सीधे जनता की मदद करेंगे विधायक पूरन सिंह फर्त्याल..

इन दिनों पूरा देश कोरोना वायरस की महामारी के कारण एक कठिन दौर से गुजर रहा है। जहां कुछ दुकानदार इसके कारण हुए लाॅकडाउन का फायदा उठाकर सामान को एम‌आरपी से अधिक मूल्य पर बेच रहे हैं। वहीं देश में बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो इस कठिन दौर में देश की गरीब एवं मजबूर जनता की मदद को आगे आए रहे हैं। राज्य में भी ऐसे लोगों की कोई कमी नहीं है। कोई अपना घर सरकार को दे रहा है तो कोई अपने होटल और अन्य सामग्री। बहुत से लोग धन दौलत देकर भी लोगों की मदद को आगे आए हैं, कहीं-कहीं तो लोग गरीब मजदूरों को भोजन कराकर पुण्य कमा रहे हैं। बात अगर जन प्रतिनिधियों की करें तो जहां एक ओर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के आदेश पर सभी विधायक अपनी विधायक निधि से 15 लाख रुपए की धनराशि जिलों के मुख्य चिकित्साधिकारियों को दे चुके हैं वहीं कुछ विधायक ऐसे भी हैं जो अपना वेतन भी जरूरतमंदों की मदद को दान दे रहे हैं। ऐसे ही एक विधायक हैं पूरन सिंह फर्त्याल, जो बीते आठ वर्षों से राज्य के चम्पावत जिले की लोहाघाट विधानसभा से विधायक हैं। बता दें कि विधायक पूरन ने घोषणा की है कि इस मुश्किल दौर में वह अपने आगामी दो वर्षों के वेतन को क्षेत्र की उस गरीब जनता को समर्पित करते हैं जिनके घरों में लाॅकडाउन के कारण चूल्हा नहीं जल पा रहा है। कोरोना महामारी से निपटने के लिए लोहाघाट के विधायक पूरन सिंह फर्त्याल की यह एक शानदार पहल है।




यह भी पढ़ें:- उत्तराखण्ड के एक विधायक ऐसे भी.. कोरोना के खिलाफ जंग को दिया अपने एक माह का वेतन..

वर्ष 2008 से विधवा, विकलांग और लड़कियों की शादी भी करा रहे अपने निजी खर्चे से:- बता दें कि राज्य के चम्पावत जिले के लोहाघाट विधानसभा क्षेत्र के विधायक पूरन फर्त्याल ने अपनी सोशल मीडिया अकाउंट से एक पोस्ट जारी कर घोषणा की है कि वह क्षेत्र की सभी ग्राम पंचायतों के गरीबों एवं विकलांगों की मदद को आगामी दो वर्षों ‌का वेतन देने की घोषणा करता है। क्षेत्र की जनता के नाम जारी इस संदेश में विधायक फर्त्याल आगे कहते हैं कि यह कार्य वैसे ही होगा जैसे वह बीते 2008 से लगातार क्षेत्र की गरीब, विधवा एवं विकलांग तथा लड़कियों की शादी में व्यक्तिगत रूप से मदद करते आ रहे हैं वैसे ही वह शेष दो साल का वेतन गरीब जनता की सेवा में लगाएंगे। बताते चलें कि इससे पहले मुख्यमंत्री के आदेश पर अन्य विधायको की तरह वह भी अपनी विधायक निधि से जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी को पन्द्रह लाख रुपए की धनराशि दे चुके हैं, जिसकी दूसरी किस्त उनके द्वारा कल ही जारी की गई है। उन्होंने लोहाघाट विधानसभा के सभी जिप सदस्यों, ग्राम प्रधानों और बीडीसी सदस्यों से अपने-2 इलाके में ऐसे जरूरतमंदों का चिह्नीकरण करने को कहा है जो “हैंड टू माउथ” है अर्थात जो लोग इस लाॅकडाउन के कठिन समय में अपने भोजन की व्यवस्था नहीं कर पा रहे हैं। ऐसे लोगों को वह जल्द ही एक-एक राशन किट भी देने जा रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने सभी साधन सम्पन्न लोगों से भी अपील की है कि वह आपदा की इस दुखद घड़ी में गरीबों की मदद को आगे आए।


यह भी पढ़ें- उत्तराखण्ड: लाॅकडाउन के चलते सरकार का सराहनीय कदम, वितरित किए जाएंगे भोजन पैकेट

लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top