Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="haldwani father murder case"

उत्तराखण्ड

हल्द्वानी

उत्तराखण्ड: पूर्व फौजी को उसकी ही बेटी ने गला घोंटकर उतारा मौत के घाट, पहाड़ में सनसनी

डेढ़ साल से मानसिक रूप से बीमार थी विवाहित बेटी, दो दिन पहले ही आई थी हल्द्वानी, मूल रूप से रानीखेत का रहने वाला है परिवार
alt="haldwani father murder case"

मानसिक रूप से विक्षिप्त बेटी द्वारा अपने पूर्व फौजी पिता को गला दबाकर मारने की दुखद खबर राज्य के नैनीताल जिले से आ रही है। खबर है कि नैनीताल जिले के हल्द्वानी में एक बेटी ने अपने पिता का गला दबा दिया। बताया गया है कि आरोपी बेटी पिछले डेढ़ साल से किसी मानसिक बीमारी से ग्रसित थी और इन दिनों उसका इलाज चल रहा था। हल्द्वानी की इस दुखद खबर को जिसने भी सुना उसकी आंखें नम हो गई। बताया दें कि मृतक भारतीय सेना से सेवानिवृत्त एक पूर्व फौजी था। पहले से बेटी के स्वास्थ्य को लेकर परेशान परिवार में इस हादसे से कोहराम मचा हुआ है। मानसिक रूप से विक्षिप्त बेटी अभी कुछ दिनों पहले ही हल्द्वानी आई थी कि तभी यह दर्दनाक हादसा घटित हो गया। आरोपी बेटी का ससुराल नैनीताल जिले के ही कोटाबाग में है तथा उसका पति दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करता है। बताते चलें कि मृतक का बेटा भी सेना में है, इन दिनों मृतक की पत्नी अपने फौजी बेटे के पास ग‌ई थी। दुुुखद घटना की सूचना मिलते ही मृृतक फौजी के पैतृक गांव रानीखेत में भी सनसनी फैैैैल गई।

यह भी पढ़ें- आखिर क्यों: अखबार के एक टुकड़े तक सिमट कर रह गई उत्तराखण्ड के जवान के लापता होने की खबर?



प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से अल्मोड़ा जिले के रानीखेत निवासी सूर सिंह नेगी वर्तमान में परिवार सहित हल्द्वानी के बरेली रोड स्थित चौधरी कॉलोनी में रहते थे। सेवानिवृत्त फौजी सूर सिंह नेगी की छोटी बेटी ज्योति पिछले डेढ़ साल से मानसिक रूप से बीमार थी। इन दिनों वह अपने पति राजेंद्र कन्याल के साथ इलाज के लिए हल्द्वानी आई हुई थी। बताया गया है कि गुरुवार की सुबह पहले तो राजेंद्र ने ज्योति का नवाबी रोड में रहने वाले मानसिक रोगी चिकित्सक से उपचार कराया और इसके बाद वह ज्योति को उसके पिता के पास छोड़कर अपने घर कोटाबाग चला गया। ज्योती की मां इन दिनों पूना में रहने वाले‌ अपने फौजी बेटे के पास गई है। बताते चलें कि शुक्रवार शाम करीब साढ़े चार बजे ज्योति को अचानक बीमारी का दौरा पड़ गया। दौरा पड़ने से वह अपने पिता पर टूट पड़ी और पिता का गला दबाने लगी। बेटी के द्वारा अचानक हुए इस हमले से सूर सिंह जमीन पर गिरकर चिल्लाने लगे लेकिन बेटी ने उनका गला नहीं छोड़ा। आवाज सुनकर सूर्य के घर पहुंचे पड़ोसियों ने दरवाजा तोड़ने की कोशिश की तो बेटी ने खुद दरवाजा खोल दिया। पड़ोसी मूर्छित सूर सिंह को अस्पताल ले गए जहां डाक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें: उत्तराखण्ड : अल्मोड़ा की सपना गुमशुदा….शेयर करें, बेटी को ढूंढने में परिजनों की मदद करें


लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top