Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="haldwani father murder case"

उत्तराखण्ड

हल्द्वानी

उत्तराखण्ड : बेटी ने नहीं घोंटा था फौजी पिता का गला.. पोस्टमार्टम से हुआ नया खुलासा

सभी आंशकाओं को खारिज कर पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने धोया बेटी के माथे पर लगा कलंक का तमगा, हार्ट अटैक से हुई थी पूर्व फौजी की मौत..
alt="haldwani father murder case"

पुलिस द्वारा मानसिक रूप से बीमार बेटी पर पिता का गला घोंटने की आंशका जताए जाने के बाद अब नैनीताल जिले के हल्द्वानी की इस दुखद घटना ने नया मोड़ ले लिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद पुलिस ने खुलासा किया कि मृतक फौजी की मौत हार्ट‌अटैक से हुई थी ना कि बेटी के द्वारा पिता का गला दबाने से। सबसे खास बात तो यह है कि बेटी ने पिता का गला दबाया ही नहीं था ये बात हम इतने दावे के साथ इसलिए कह रहे हैं क्योंकि पोस्टमार्टम में डाक्टरो को मृतक का गले दबाने के साथ ही उसके शरीर पर कोई निशान नहीं मिले। इस तरह मानसिक रूप से बीमार बेटी के माथे पर लगें कलंक को पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने धोने का काम किया है। बता दें कि पुलिस द्वारा पहले आशंका जताई गई थी कि बेटी को दौरा पड़ने पर उसने अपने पिता का गला दबाया होगा जिस कारण उनकी मौत हो गई। इसके बाद बेटी को सोशल मीडिया पर भी काफी ट्रोल किया गया था।

यह भी पढ़ें:- आखिर क्यों: अखबार के एक टुकड़े तक सिमट कर रह गई उत्तराखण्ड के जवान के लापता होने की खबर?



गौरतलब है कि मूल रूप से रानीखेत निवासी सेवानिवृत्त फौजी शूर सिंह नेगी की शुक्रवार की शाम को उनके बरेली रोड की चौधरी कालोनी स्थित आवास पर संदिग्ध हालात में मौत हो गयी थी। मौत से पहले शूर सिंह ने अपने किरायेदार राकेश को चिल्लाकर पुकारा और यह उनकी अंतिम आवाज थी। चिल्लाने की आवाज सुनकर राकेश जैसे ही उनके घर पर पहुंचा तो दरवाजा भीतर से बंद था। दरवाजा खटखटाने पर बीते डेढ़ साल से मानसिक रूप से बीमार चल रही मृतक की छोटी बेटी ज्योति ने दरवाजा खोला तो राकेश सहित सभी पड़ोसियों के होश उड़ गए। शूर सिंह अपने ड्राइंग रूम में जमीन में अचेत पड़े थे। हादसे के वक्त घर पर पिता पुत्री अकेले थे और पुत्री मानसिक रोगी थी तो किसी को भी उसकी बातों पर विश्वास नहीं हुआ। यहां तक कि पड़ोसियों के साथ ही पुलिस ने भी प्रथमदृष्टया ज्योति पर ही पिता शूर सिंह का गला दबाकर हत्या करने का अंदेशा जताया। लेकिन शनिवार दोपहर आई पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने सभी आशंकाओं पर विराम लगाकर सभी को हतप्रभ कर दिया।

यह भी पढ़ें- सेना मेडल से नवाजे गए शहीद मेजर चित्रेश बिष्ट , बेटे का मेडल देख छलक आई पिता की आंखें



लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top