Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="uttarakhand kamlesh dead body return"

उत्तराखण्ड

टिहरी गढ़वाल

टिहरी गढ़वाल: बेटे के शव को दिल्ली से वापस लौटाए जाने की खबर सुनते ही बिलख पड़ी माँ..

uttarakhand: बार-बार बेसुध होती मां के आंसु पूछ रहे एक ही सवाल कि सारे नियम कायदे क्या गरीबों के लिए ही होते हैं??

क्या बीत रही होगी उस मां पर जिसने अपने बच्चे को पाल पोंछकर बढ़ा किया , क्या गुजर रही होगी उस पिता पर जो बेटे की शादी बड़े ही धूमधाम से करना चाहता था। बेटे की मौत की खबर से एकदम सबकुछ खत्म हो गया। बेटे की मौत की दुखद खबर से ही सारे सपने धरे के धरे रह गए.. अब तो बस अंतिम बार बेटे का मुख देखने की इच्छा थी लेकिन कमलेश के शव को दिल्ली एयरपोर्ट से वापस भेजने की खबर से परिजन बिलख पड़े.. एक तरफ आक्रोश था तो दूसरी तरफ घर में गम का माहौल। जहां उनका रो-रोकर बुरा हाल है। वहीं स्थानीय ग्रामीण उन्हें सांत्वना देने तो आ रहे हैं परन्तु वे ना तो उन्हें सांत्वना दें पा रहे हैं और ना ही कुछ कह पा रहे हैं। आखिर कहें भी क्या देश के सिस्टम ने भारत आए हुए कमलेश के शव को वापस भेजकर सभी को निशब्द जो कर दिया है। इन सभी के खामोशी को तोड़ती रोने-बिलखने की आवाज बार-बार एक ही सवाल पूछ रही है कि सारे नियम कायदे क्या गरीबों के लिए ही होते हैं??


यह भी पढ़ें- उत्तराखण्ड के कमलेश भट्ट का दिल्ली से वापस लौटाया गया शव, बीते दिनों दुबई में हुई थी मौत

बीते साल बहन की शादी में आया था घर:-

गौरतलब है कि राज्य (Uttarakhand) के टिहरी गढ़वाल  जिले के के जौनपुर ब्लॉक के सेमवाल गांव निवासी कमलेश भट्ट की बीते 16 अप्रैल को दुबई में संदिग्धावस्था में मौत हो गई थी। सामाजिक कार्यकर्ता रोशन रतूड़ी ने परिजनों को इस दुखद हादसे की खबर दी थी। खबर सुनते ही परिवार में कोहराम मच गया। पिता हरिप्रसाद भट्ट की आंखों से आंसू नहीं रूक रहे थे तो कमलेश की मां बार-बार बेसुध हो जा रही थी। परिजनों ने टिहरी के जिलाधिकारी सहित राज्य के मुख्यमंत्री तक से कमलेश का शव दुबई से घर वापस लगाने की गुहार लगाई थी। परंतु उन्हें एक ही उत्तर सुनने को मिला कि इस वक्त सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक है, यही बात परिजनों ने सामाजिक कार्यकर्ता रोशन रतूड़ी को बताई जिस पर रतूड़ी ने दुबई में काफी जद्दोजहद के बाद कमलेश के शव को भारत भेजा लेकिन उसे दिल्ली से वापस लौटा दिया गया। बता दें कि मृतक कमलेश बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखता था। उसका एक छोटा भाई भी है। वह हर साल दुबई से छुट्टी लेकर घर आता था। पिछले साल वह बहन की शादी के दौरान दुबई से 15 दिन की छुट्टी लेकर घर आया था।


यह भी पढ़ें- टिहरी गढ़वाल: संदिग्ध परिस्थितियों में हुई वंदना की मौत के मामले में पुलिस ने की बड़ी कार्रवाई

लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top