Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
Uttarakhand news: Pawan Bhatt presented an example of honesty, found a bag full of twenty-two lakh rupees in champawat

उत्तराखण्ड

चम्पावत

उत्तराखंड: पौने दो लाख रुपये से भरा मिला बैग, पवन भट्ट ने पेश की ईमानदारी की मिसाल

Uttarakhand: चम्पावत (Champawat) के पवन भट्ट ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, पौने दो लाख रुपयों से भरा बैग सुरक्षित वापस लौटाया..

राज्य (Uttarakhand) के पहाड़ी भूभाग के वाशिंदे ऐसे ही लोगों के दिलों में नहीं बस जाते हैं बल्कि इसका सबसे बड़ा कारण है पहाड़ के लोगों का सीधा, सच्चा, सरल और ईमानदार होना। आज एक बार फिर ईमानदारी की ऐसी ही मिसाल पेश की है पहाड़ के एक छात्र ने, जी हां.. हम बात कर रहे हैं राज्य के चम्पावत (Champawat) जिले के रहने वाले पवन भट्ट ने, जिसने पौने दो लाख रुपये से भरा एक बैग उसके मालिक को लौटाकर एक बार फिर यह साबित कर दिया है कि आखिर ऐसे ही नहीं पहाड़ के लोगों को सीधा, सच्चा, ईमानदार कहा जाता है। जहां चंद रुपयों के लिए लोगों का ईमान डोल जाता है वहां पवन के इस सराहनीय कार्य की जितनी भी तारीफ की जाए वो कम है। यही कारण है कि आज पवन के इस ईमानदार पूर्ण कार्य पर जहां बैग के असली मालिक धन्यवाद करते नहीं थक रहे हैं वहीं क्षेत्र में हर कोई पवन की सराहना भी कर रहा है।
यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: रोहित को सड़क पर मिली 02 तोले की सोने की नथ पुलिस के सुपुर्द कर पेश की मानवता की मिशाल

बैग सुरक्षित वापस मिलने पर पवन का धन्यवाद देते नहीं थक रहे व्यापारी, ईनाम की पेशकश को भी पवन ने अपनी जिम्मेदारी बताते हुए ठुकराया:-

प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से राज्य के चम्पावत जिले के स्वांला निवासी पवन भट्ट राजकीय डिग्री कॉलेज से बीए की पढ़ाई कर रहे हैं। बताया गया है कि बीते शनिवार सुबह पवन को टनकपुर-पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक होटल के नजदीक सड़क पर एक बैग पड़ा मिला। उन्होंने बैग खोलकर देखा तो वह रूपयों से भरा था। गिनने पर पता चला कि बैग में 1.75 लाख रुपये थे। जिस पर पवन ने अपने भाई बीडीसी सदस्य हेम भट्ट को बैग के बारे में बताया। जिस पर दोनों ने बैग को पुलिस के हवाले करना तय किया। अभी दोनों भाई कोतवाली चम्पावत जाने के लिए वाहन का इंतजार कर ही रहे थे कि इतने में मौके पर एक व्यक्ति पहुंचा जो काफी परेशान लग रहा था। पूछने पर उसने दोनों भाइयों को बताया कि वह एक व्यापारी है और उसका बैग कहीं गिर गया है। जिस पर पवन ने व्यापारी से बैग का रंग, पहचान और राशि बताने को कहा। जबाव से संतुष्ट होने पर दोनों भाइयों ने नोटों से भरा बैग व्यापारी को वापस कर दिया। इतना ही नहीं जब व्यापारी ने उन्हें धन्यवाद देते हुए इनाम देने की पेशकश की तो दोनों भाइयों ने इसे अपनी जिम्मेदारी बताते हुए इनाम लेने से भी मना कर दिया।

यह भी पढ़ें- इस कॉन्स्टेबल ने डीएम मंगेश घिल्डियाल को कहा थाने में बंद कर दूंगा, डीएम खुद देंगें अब ईनाम

लेख शेयर करे

Comments

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

RUDRAPRAYAG : DM VANDANA CHAUHAN

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

VIDEO

Advertisement
To Top