Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="uttarakhand poonam kholia got international award"

उत्तराखण्ड

नैनीताल

उत्तराखण्ड की पूनम गोल्ड मेडल जीतकर बनी अंतराष्ट्रीय महिला बाइकर, पहाड़ में ही की तैयारी

uttarakhand: भाई से प्रेरित होकर बनाया माउंटेन बाइकिंग में कैरियर..alt="uttarakhand poonam kholia got international award"

समय के साथ आगे बढ़ती उत्तराखण्ड (uttarakhand) की बेटियां आज के डिजिटल ‌युग को साकार कर रही है और इसी वजह से वो किसी भी क्षेत्र में पीछे भी नहीं है। चाहे शिक्षा का क्षेत्र हो या फिर खेल का मैदान, गीत-संगीत का रंगमंच हो या फिर राजनीति का मैदान यहां तक कि बाइक/साइकिल राइडिंग में भी देवभूमि (uttarakhand) की बेटियां देश की अन्य बेटियों के लिए प्रेरणा स्रोत बनकर उभरी है। कुल मिलाकर आज कोई भी ऐसा क्षेत्र नहीं है जहां देवभूमि (uttarakhand) की बेटियों ने अपनी प्रतिभा का जलवा ना बिखेरा हों। आज हम आपको देवभूमि (uttarakhand) की एक और ऐसी ही बेटी से रूबरू करा रहे हैं जो एक बार नहीं अपितु पिछले दो वर्षों में लगातार माउंटेन बाइक राइडिंग में नेशनल चैंपियन रह चुकी है। जी हां.. हम बात कर रहे हैं राज्य (uttarakhand) के नैनीताल जिले की रहने वाली पूनम खोलिया की, जिन्होंने हाल ही में सम्पन्न हुई 16वीं नेशनल ‌माउंटेन‌ बाइक चैम्पियनशिप में अपने शानदार प्रदर्शन से दो स्वर्ण पदक अपने नाम कर पूरे राज्य का मान बढ़ाया है। बता दें कि पूनम इससे पहले भी वर्ष 2018 एवं 2019 में लगातार दो वर्ष माउंटेन बाइकिंग की नेशनल चैंपियन रह चुकी है। पूनम की इस उपलब्धि से पूरे क्षेत्र में हर्षोल्लास का माहौल है। इस सुनहरे अवसर पर क्षेत्रवासियों का कहना है कि पूनम ने ना सिर्फ उनके क्षेत्र का अपितु जिले और राज्य का नाम भी पूरे देश में रोशन किया है। बताते चलें कि पूनम के भाई कमलेश राना भी माउन्टेन बाइकिंग में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी हैं और उन्हीं से प्रेरित होकर पूनम ने माउन्टेन बाइकिंग के क्षेत्र को चुना।


यह भी पढ़ें:- उत्तराखंड: दस आतंकियों का खात्मा करने वाले लेफ्टिनेंट कर्नल रावत को मिला बहादुरी का सेना मेडल

पहाड़ में रहकर ही की बाइक राइडिंग की तैयारी:- प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य (uttarakhand) के नैनीताल जिले के मुक्तेश्वर के सतखोल निवासी पूनम खोलिया राणा बीते दो वर्षों से माउंटेन बाइक की नेशनल चैंपियन है। पूनम के पिता ध्यान सिंह राना‌ सेना से सेवानिवृत्त है जबकि उनकी मां कुंती देवी गृहणी हैं। अपनी शुरुआती शिक्षा-दीक्षा मुक्तेश्वर और बारहवीं तक की पढ़ाई जीआईसी प्यूड़ा से करने वाली पूनम ने इस वर्ष हाल ही में सम्पन्न हुई 16वीं नेशनल माउंटेन बाइक चैम्पियनशिप में भी शानदार प्रदर्शन कर दो स्वर्ण पदक अपने नाम किए हैं। बताते चलें कि 16वीं नेशनल माउंटेन बाइक चैम्पियनशिप का आयोजन साइकिल एसोसिएशन आफ उत्तराखण्ड एवं साइकिल फेडरेशन ऑफ इंडिया की तरफ से पिछले हफ्ते नैनीताल जिले के हल्द्वानी में किया गया था। इस चैंपियनशिप में पूनम ने शानदार प्रदर्शन कर प्रतियोगिता के पहले दिन बृहस्पतिवार को ही टायम ट्रायल में स्वर्ण पदक अपने नाम किया। बताते चलें कि पूनम का विजय रथ यही नहीं रूका अपितु उन्होंने चैम्पियनशिप के दूसरे दिन हुई मास स्टार्ट प्रतियोगिता में भी बेहतरीन प्रदर्शन कर गोल्ड मेडल अपने नाम किया। चैम्पियनशिप में दो गोल्ड मेडल जीतने वाली पूनम ने मास स्टार्ट के महिला वर्ग की प्रतियोगिता में अपनी रेस 29 मिनट 7 सेकण्ड में पूरी कर गोल्ड मेडल जीता। इस दौरान सुबह से हो रही बारिश भी पूनम की रफ्तार नहीं रोक सकी। सबसे खास बात तो यह है कि पूनम ने अपनी बाइक राइडिंग की तैयारी पहाड़ यानी मुक्तेश्वर में रहकर ही की है। वह रोजाना चार घंटे राइडिंग को देती है।


यह भी पढ़ें:- उत्तराखण्ड: प्रशांत रावत का भारतीय टीम में चयन, पिता एनएस रावत भी रहे खिलाड़ी

लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top