Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="uttarakhand son prashu Agrawal became lefftinant"

उत्तराखण्ड

ऊधमसिंह नगर

उत्तराखण्ड का बेटा प्रांशु बना भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट, गौरवान्वित हुआ समूचा प्रदेश

uttarakhand: सेना में लेफ्टिनेंट डाक्टर बना उत्तराखंड का बेटा, फिर गौरवान्वित हुई देवभूमि..
alt="uttarakhand son prashu Agrawal became lefftinant"

राज्य के युवाओं में देशसेवा‌ करने की लालसा कितनी अधिक है इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि आज भी राज्य के अधिकांश युवा भारतीय सेना में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं और इसके लिए वह रात और दिन भी एक कर देते हैं। चाहे छोटे लेवल की कोई पोस्ट हो या फिर बड़े से बड़े अधिकारी का पद इन सभी में उत्तराखण्डियों की मौजूदगी को नजरंदाज नहीं किया जा सकता है। कुल मिलाकर राज्य के इन सभी वाशिंदो ने अपने देशसेवा के जज्बे से समूचे देश-विदेश में उत्तराखंड का मान बढ़ाया है। आज हम आपको राज्य के एक और ऐसे ही बेटे से रूबरू करा रहे हैं जिसने न सिर्फ भारतीय सेना में भर्ती होकर अपना कैरियर बनाया अपितु लेफ्टिनेंट बनकर समूचे राज्य को गौरवान्वित भी किया है। जी हां हम बात कर रहे हैं राज्य के उधमसिंह नगर जिले के रहने वाले प्राशु अग्रवाल की, जो बीते गुरुवार को पुणे में आयोजित पासिंग आउट परेड के बाद भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट डाक्टर बन ग‌ए है। अपनी इस अभूतपूर्व उपलब्धि का श्रेय प्रांशु ने जहांअपनी दादा-दादी, एवं माता पिता के साथ-साथ अपने गुरूजनो एवं साथियों को दिया है वहीं अभी भी उनके घर पर बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है।


यह भी पढ़ें:- कोरोना वाइरस के चलते उत्तराखण्ड 31 मार्च तक लाॅकडाउन घोषित..जानिए आवश्यक निर्देश..

सैनिक स्कूल घोड़ाखाल से प्राप्त की है इण्टर तक की शिक्षा:- प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य के उधमसिंह नगर जिले के काशीपुर तहसील के ओझान निवासी डॉ प्राशु अग्रवाल भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट डाक्टर बन ग‌ए है। उन्हें यह उपलब्धि बीते गुरुवार को पुणे में आयोजित एएफएमसी की पासिंग आउट परेड के दौरान कंधों पर सितारे लगने के बाद हासिल हुई। बताया गया है कि उन्हें अपनी पहली पोस्टिंग असम के गुवाहाटी में मिली है। बता दें कि प्रांशु ने कक्षा नौ से 12 तक की शिक्षा सैनिक स्कूल घोड़ाखाल से प्राप्त की है। जिसके बाद वर्ष 2015 में नीट परीक्षा उत्तीर्ण करने के उपरांत उनका चयन एएफएमसी में हुआ था। सबसे खास बात तो यह है कि एएफ‌एमसी में चयनित होने से पहले प्रांशु उत्तराखंड मेडिकल कॉलेज और ऑल इंडिया मेडिकल टेस्ट की परीक्षा भी उत्तीर्ण कर चुके थे। बताते चलें कि प्राशु के पिता पंकज कुमार उदयराज हिन्दू इंटर कॉलेज में रसायन विज्ञान के प्रवक्ता है जबकि उनकी माता अनुजा अग्रवाल एक कुशल गृहिणी है। प्राशु की इस उपलब्धि से जहां उनके परिजन खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं वहीं समूचे क्षेत्र में भी हर्षोल्लास का माहौल है।


यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: मर्सोली गांव का संदीप बना भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट, राज्य को किया गौरवान्वित

लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top