Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
Uttarakhand news: tractor trolley crushed scooty of two brothers, died on the spot in sitarganj udhamsingh nagar accident. sitarganj scooty accident

UTTARAKHAND ROAD ACCIDENT

उत्तराखण्ड

ऊधमसिंह नगर

उत्तराखंड: दो भाइयों को तेज रफ्तार ट्रैक्टर ट्रॉली ने रौंदा मौके पर तोड़ा दम, पूरे क्षेत्र में हड़कंप

sitarganj scooty accident: दर्दनाक सड़क हादसे में दो किशोरों की मौत, परिवारों में मचा कोहराम, गांव में भी पसरा मातम…

राज्य में दर्दनाक सड़क दुघर्टनाओं का तांडव जारी है। कुमाऊं मंडल से लेकर गढ़वाल मंडल तक आज ऐसा कोई भी क्षेत्र नहीं है जहां से दर्दनाक सड़क दुघर्टनाओं की दुखद खबरें सुनने को ना मिलती हों। ऐसी ही एक खबर आज राज्य के उधमसिंह नगर जिले से सामने आ रही है जहां एक तेज रफ्तार अनियंत्रित ट्रेक्टर ट्राली की चपेट में आकर स्कूटी सवार दो किशोरों की मौत हो गई। बताया गया है कि मृतक दोनों किशोर, चचेरे-तहेरे भाई थे। इस दुखद हादसे की खबर से जहां मृतक किशोरों के परिवार में कोहराम मचा हुआ है वहीं उनके गांव में भी शोक की लहर दौड़ गई है। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस विभाग की टीम ने मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है। हादसे के बाद आरोपी ट्रेक्टर ट्राली चालक मौके से भागने में कामयाब रहा। पुलिस ने ट्रैक्टर ट्राली को कब्जे में लेकर फरार चालक की तलाश शुरू कर दी है।
(sitarganj scooty accident)
यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: गणित के पेपर से पहले दसवीं की छात्रा ने कर दी अपनी जीवन लीला समाप्त

प्राप्त जानकारी के अनुसार यह दर्दनाक सड़क हादसा उस समय घटित हुआ जब मंडी गेट के पास एक ट्रैक्टर ट्राली ने स्कूटी सवार किशोरों को पीछे से टक्कर मार दी। जिससे थारू गोरीखेड़ा गांव के 13 वर्षीय शांतनु पुत्र सुरजीत सिंह की मौके पर ही मौत हो गई जबकि उसका चचेरा भाई 12 वर्षीय मानव पुत्र कुलदीप सिंह गंभीर रूप से घायल हो गया। जिसे उपचार हेतु सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी ले जाया गया जहां उसने दम तोड दिया। दोनों परिवारों में नाबालिग किशोरों की आकस्मिक मौत से जहां कोहराम मच गया वहीं शांतनु की मां सुनीता देवी और मानव की मां सविता देवी का रो-रोकर बुरा हाल है। बता दें कि शांतनु शांतिकुंज, हरिद्वार में कक्षा सातवीं का छात्र था जबकि मानव, सितारगंज के शैली स्कूल में कक्षा छह में पढ़ता था। शांतनु के पिता गढ़वाल मंडल में पुलिस में तैनात हैं। जबकि मानव के पिता सिडकुल की एक कंपनी में श्रमिक हैं। एक ही गांव के दो चचेरे-तहेरे भाइयों की मौत से पूरे गांव में भी मातम पसरा हुआ है। परिजनों के अंतिम दर्शनों के बाद दोनों किशोरों का अंतिम संस्कार गांव के ही मुक्तिधाम में किया गया। इस दौरान अंतिम शव यात्रा में ग्रामीणों का हुजूम उमड़ पड़ा।
(sitarganj scooty accident)

यह भी पढ़ें- Ankit murder case pithoragarh: दोस्त की प्रेमिका के परिजनों ने मिलकर कर दी युवक की हत्या

उत्तराखंड की सभी ताजा खबरों के लिए देवभूमि दर्शन के WHATSAPP GROUP से जुडिए।

👉👉TWITTER पर जुडिए।

लेख शेयर करे

More in UTTARAKHAND ROAD ACCIDENT

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement Enter ad code here

PAHADI FOOD COLUMN

UTTARAKHAND GOVT JOBS

Advertisement Enter ad code here

UTTARAKHAND MUSIC INDUSTRY

Advertisement Enter ad code here

Lates News

To Top