Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="uttarakhand amit Kumar martyred with indian army image"

उत्तराखण्ड

पौड़ी गढ़वाल

जम्मू कश्मीर में आतंकियों से मुठभेड़ में शहीद हुआ उत्तराखण्ड का लाल, कुछ महीने बाद होनी थी शादी

indian army image: उत्तराखण्ड के वीर सपूतों ने मां भारती के नाम किया अपना सर्वोच्च बलिदान, कुछ ही महीनों बाद होनी थी पैरा ट्रूपर अमित की शादी..

वीरभूमि उत्तराखण्ड के दो वीर सपूत आज फिर मातृभूमि की रक्षा के लिए देश को अपना सर्वोच्च बलिदान अर्पित कर गए। अपनी जान की बाजी लगाने से भी पीछे ना हटने वाले राज्य के वीर सपूतों पर हर उत्तराखण्डी को गर्व है। आज एक बार राज्य के दो बेटों की शहादत से जहां समूचे उत्तराखण्ड में शोक की लहर है वहीं पूरे उत्तराखण्ड को राज्य के इन वीर सपूतों पर गर्व भी है कि वह एक बार फिर अपने प्राणों की आहुति देकर राज्य के वीर सपूतों ने आतंकियों के मंसूबों को नाकामयाब कर दिया। बता दें कि जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में घुसपैठियों के मंसूबों को नाकाम करते हुए उत्तराखंड के दो वीर जवानों सहित सेना के पांच जवान शहीद हो गए। बताते चलें कि बीते पांच दिनों से चली आ रही इस मुठभेड़ में सेना ने पिछले २4 घंटे में नौ आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने दोनों शहीदों की शहादत को नमन करते हुए कहा है कि सरकार शहीदों के परिजनों के साथ हर पल खड़ी हैं।


यह भी पढ़ें- दुखद खबर: कश्मीर में आतंकियों से लोहा लेते हुए 5 जवान शहीद दो उत्तराखण्ड से भी शामिल

अमित सर्जिकल स्ट्राइक करने वाली टीम में भी था शामिल:-

प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य के पौड़ी गढ़वाल जिले के कल्जीखाल विकासखंड के ग्राम कोला निवासी अमित कुमार अंथवाल उर्फ टिंकू भारतीय सेना में पैरा ट्रूपर थे। बीते रविवार तड़के पांच पाकिस्तानी आतंकियों को सुरक्षाबलों ने जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में 15 घंटे से अधिक चली मुठभेड़ में मार गिराया। इस दौरान सूबेदार सहित पांच सैन्यकर्मी भी शहीद हो गए। जिनमें पैरा ट्रूपर अमित कुमार भी शामिल हैं। बताया गया है कि देश के नाम अपना सर्वोच्च बलिदान करने वाले अमित की कुछ महीनों बाद ही शादी होने वाली थी। अमित इससे पहले भी कई बार अपनी वीरता, साहस से क‌ई आतंकियों को ढेर कर चुके थे। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार अमित इससे पहले पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक करने वाली टीम का भी हिस्सा रह चुके थे। जवान बेटे की शहादत की खबर मिलते ही जहां उनके परिवार सहित पूरे गांव में कोहराम मचा हुआ है वहीं पूरे क्षेत्र में भी शोक की लहर है। बताते चलें कि अमित के साथ ही राज्य के रूद्रप्रयाग जिले के रहने वाले हवलदार देवेन्द्र सिंह ने भी मातृभूमि की रक्षा करते हुए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए हैं।


यह भी पढ़ें:- उत्तराखण्ड का लाल पुलवामा में आतंकियों से मुठभेड़ में हुआ शहीद पहाड़ में दौड़ी शोक की लहर

लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top