Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="padam awards list uttarakhand"

उत्तराखण्ड

देहरादून

केन्द्र सरकार ने किया पद्म पुरस्कारों का ऐलान, देवभूमि उत्तराखंड से तीन विभूतियों के नाम

सरकार द्वारा जारी पद्म पुरस्कारों की सूची (padam awards list) में उत्तराखंड की तीन विभुतियों ने भी स्थान पाया है… alt="padam awards list uttarakhand"

केन्द्र सरकार ने शनिवार को गणतंत्र दिवस के मौके पर दिए जाने वाले देश के प्रतिष्ठित पद्म पुरस्कारों की घोषणा कर दी गई है। 71 वें गणतंत्र दिवस के मौके पर दिए जाने वाले पद्म पुरस्कारों की सूची (padam awards list) जारी करते हुए सरकार ने बताया कि इस बार 7 हस्तियों को पद्म विभूषण, 16 को पद्म भूषण और 118 को पद्म श्री पुरस्कार दिया जाएगा। बात देवभूमि उत्तराखंड की करें तो राज्य से भी तीन महान विभूतियों को भी इन पुरस्कारों से नवाजा जाएगा। इनमें हैस्को संस्थापक पदमश्री डा. अनिल प्रकाश जोशी को पद्म भूषण एवं मैती आंदोलन के प्रणेता कल्याण  सिंह रावत तथा वयोवृद्ध प्लास्टिक सर्जन डॉ. योगी ऐरोन को आज पद्म श्री से नवाजा जाएगा। बता दें कि देवभूमि उत्तराखंड की इन विभूतियों अपने ऐतिहासिक कार्यो एवं उद्देश्यों से देश विदेश में राज्य का नाम रोशन किया है। आज इन पुरस्कारों को प्राप्त कर एक बार फिर से सम्पूर्ण उत्तराखण्ड को गौरवान्वित होने का सुनहरा अवसर प्रदान किया है। आइए अब संक्षेप में जानते हैं इन महान विभूतियों के बारे में-:

यह भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस पर राजपथ में आयोजित परेड में हिस्सा लेगा उत्तराखण्ड का एक और बेटा संजीव


सरकारी नौकरी छोड़ गांवों और ग्रामीणों की तस्वीर संवारने में जुटे हैं हेस् संस्थापक डॉ अनिल प्रकाश जोशी, अब मिलेगा पद्म भूषण:- सबसे पहले बात करते हैं पद्म श्री पुरस्कार विजेता हैस्को संस्थापक डा. अनिल प्रकाश जोशी की। पर्यावरण पारिस्थितिकी और ग्राम्य विकास से जुड़े मुद्दों को आगे ले जाने के कारण डा• अनिल को अभी तक पद्म श्री सहित अनेक सम्मानों से नवाजा जा चुका है। ग्रामीण क्षेत्रों की तस्वीर संवारने में जुटे डॉ. अनिल प्रकाश जोशी को आज गणतंत्र दिवस के मौके पर देश के तीसरे सबसे बड़े सम्मान पद्म भूषण से नवाजा जाएगा। बता दें कि डॉ अनिल मूल रूप से राज्य के पौड़ी गढ़वाल जिले के कोटद्वार निवासी है। 1972 में महाविद्यालय में प्राध्यापक पद पर नियुक्त डॉ जोशी ने 1983 में कुछ प्राध्यापकों व विद्यार्थियों के साथ मिलकर हिमालयी पर्यावरण अध्ययन एवं संरक्षण संगठन (हेस्को) संगठन की स्थापना कर हिमालय और पहाड़ के लिए कुछ करने का रास्ता तलाशा। जिसके बाद उन्होंने लोक विज्ञान और विज्ञान का समावेश कर गांव-समाज की बेहतरी को कार्य करने की मुहिम शुरू की। डॉ जोशी ने 1992 में नौकरी छोड़कर स्थानीय संसाधनों से स्थानीय जरूरतें पूरी करने पर जोर दिया और इसी का परिणाम है कि राज्य में उनके प्रयासों से 38 गांव मॉडल के रूप में विकसित किए गए हैं। इतना ही नहीं स्थानीय साधनों से चारों धामों में प्रसाद कार्यक्रम की उनकी मुहिम भी काफी प्रभावी साबित हो रही है। डॉ जोशी के प्रयासो से अब तक 125 जलधारे पुनर्जीवित किए गए हैं।

alt="Padam shree dr. anil Kumar joshi"

हैस्को संस्थापक पद्म श्री डॉ. अनिल प्रकाश जोशी

यह भी पढ़ें- उत्तराखण्ड: चार साल पहले तक भीख मांगती थी चांदनी, अब मुख्य अतिथि बन बयां की अपनी दास्तां



देश-विदेश में विख्यात मैती आंदोलन के प्रणेता को मिलेगा पर्यावरण संरक्षण का ईनाम, नवाजे जाएंगे पद्मश्री पुरस्कार से:- विश्व विख्यात मैती आंदोलन को कौन नहीं जानता। उत्तराखण्ड का यह आन्दोलन अब तक पांच लाख से अधिक विवाहित जोड़ों से एक पौधा लगवा चुका है। पर्यावरण संरक्षण में इस आंदोलन का अहम योगदान है। इस आंदोलन का सारा श्रेय इसके प्रणेता एवं जीव विज्ञान के रिटायर्ड प्रोफेसर कल्याण सिंह रावत को जाता है। बता दें कि मूल रूप से राज्य के चमोली जिले के कर्णप्रयाग ब्लॉक निवासी कल्याण सिंह रावत ने मैती आंदोलन की शुरुआत चमोली के ग्वालदम कस्बे से वर्ष 1995 में उस समय की जब वह वहां जीव विज्ञान के शिक्षक थे। वर्तमान में राज्य के देहरादून के नथुवावाला में रह रहे कल्याण सिंह रावत अपने छात्र जीवन में विश्व विख्यात चिपको आंदोलन के सम्पर्क में आए और तभी से पर्यावरण संरक्षण के लिए कुछ ना कुछ करने की सोचने लगें। शिक्षक पद पर तैनाती के बाद ग्वालदम में ही उनके मन में विवाह समारोह में पौधे रोपने का अभियान शुरू करने का विचार आया। जिसके बाद वही एक मित्र और एक जलपान गृह के संचालक के साथ उन्होंने मिठाई के डिब्बों पर मैती आंदोलन का संदेश प्रकाशित करना शुरू किया। अब तक पांच लाख से अधिक पेड़ लगवा चुके कल्याण सिंह रावत को अब पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। इस आंदोलन में जब किसी बेटी की शादी होती है, तो वह विदाई से पहले एक पौधा रोपती है।

alt="kalyan singh rawat"

मैती आंदोलन के प्रणेता कल्याण सिंह रावत

यह भी पढ़ें- वीडियो :उत्तरायणी कौतिक में प्रियंका महर ने पहाड़ी गीतों से बिखेरा अपनी आवाज का जादू



सेवा परमो धर्म: के रूप में हजारों गरीबों की फ्री प्लास्टिक सर्जरी कर चुके हैं डॉ. ऐरोन, अब मिलेगा पद्म श्री:- डॉक्टर को संसार में भगवान का रूप माना जाता हैं और इस बात को बिल्कुल सही साबित किया है वयोवृद्ध प्लास्टिक सर्जन डॉ. योगी ऐरोन ने। गरीबों के लिए देवदूत बनकर काम कर रहे हैं 82 साल के बुजुर्ग प्लास्टिक सर्जन डॉ. योगी ऐरन को आज चिकित्सा एवं विज्ञान-इंजीनियरिंग के क्षेत्र में पद्म श्री सम्मान से नवाजा जाएगा। कभी अमेरिका में रहकर विश्व के मशहूर प्लास्टिक सर्जन डॉ. मिलार्ड के साथ काम कर चुके डॉ. योगी में पिछले 14 साल से मानवता की सेवा करने में जुटे हुए हैं। बता दें कि डॉ ऐरन अब तक अब तक 5000 से अधिक लोगों की निःशुल्क प्लास्टिक सर्जरी कर चुके हैं। वर्तमान में देहरादून जिलेके देहरादून-मसूरी रोड स्थित कुठालगेट के पास जंगल-मंगल नामक स्थान पर निवास करने वाले डॉ ऐरन के ऐसा हुनर है कि अब तक कोई भी मरीज उनके क्लीनिक से खाली नहीं लौटा है। अपने इस हुनर के बल पर वह चाहते तो किसी बड़े शहर में अपना अस्पताल खोलकर मोटी कमाई कर सकते हैं, लेकिन उन्होंने अपना जीवन गरीबों की सेवा में समर्पित कर रखा है। डॉ ऐरन विश्व के उन सभी लोगों के लिए मिशाल है जो पैसे को ही सबकुछ मानते हैं। गरीबों की सेवा को सबसे बड़ा धर्म मानने वाले हेल्पिंग हैंड संस्था के संस्थापक डॉ ऐरन कहते हैं कि जलने या जानवर के हमले में घायल होने के कारण शारीरिक विकृति से जूझ रहे लोगों को दोबारा वही काया पाकर न सिर्फ नया जीवन मिलता है अपितु सामान्य जीवन जीने का एक हौसला भी मिलता है। यही देखकर उन्हें आत्मिक शांति प्राप्त होती है।

alt="dr. yogi aeron"

प्लास्टिक सर्जन डॉ. योगी ऐरोन

यह भी पढ़ें- आखिर क्यों: अखबार के एक टुकड़े तक सिमट कर रह गई उत्तराखण्ड के जवान के लापता होने की खबर?



लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top