Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
alt="Harshit patni become seventh topper of uttarakhand CBSE 10th topper"

UTTARAKHAND CBSE TOPPER

उत्तराखण्ड

चम्पावत

सीबीएसई 10वीं रिजल्ट: हर्षित ने कड़ी मेहनत से पाया मुकाम, उत्तराखंड में हासिल किया सातवां स्थान

CBSE 10th topper: चम्पावत के हर्षित ने प्रदेश में संयुक्त रूप से हासिल किया सातवां स्थान, साथ ही चम्पावत जिले के संयुक्त टॉपर भी बनें..

सीबीएसई बोर्ड के 10वीं के नतीजे सामने आते ही जहाँ विद्यार्थियों के चेहरे खिल उठे वहीं प्रदेश में विशेष स्थान पाने वाले छात्र छात्राओं की खुशी भी दुगनी हो उठी हैं। सीबीएसई के परीक्षा परिणामों में न सिर्फ मैदानी इलाकों के छात्र-छात्राओं का बोलबाला रहा बल्कि राज्य के पहाड़ी जनपदों के विद्यार्थियों ने भी शानदार प्रदर्शन कर प्रदेश के शीर्ष-10 अंकों वाले छात्रों में भी अपना स्थान पक्का किया। पर्वतीय जनपद चम्पावत के ऐसे ही एक छात्र हैं हर्षित पाटनी, जिन्होंने न सिर्फ अपनी कड़ी मेहनत से निकिता पंत के साथ संयुक्त रूप से चम्पावत जिला टॉप (CBSE 10th topper) किया बल्कि राज्य में सातवां स्थान भी हासिल किया। ओकलैंड पब्लिक स्कूल के होनहार छात्र हर्षित को परीक्षा परिणामों में 492 (98.40 फीसदी) अंक मिले। हर्षित की इस उपलब्धि से जहां उनके स्कूल तथा परिवार में हर्षोल्लास का माहौल है वहीं पूरे क्षेत्र में भी खुशी की लहर है। हर्षित ने अपनी इस सफलता का श्रेय माता-पिता, गुरुजनों के अलावा जोधपुर एम्स से एमबीबीएस कर रही बहिन उदिता सहित अपने समस्त परिजनों को दिया है।
यह भी पढ़ें- बिना किसी ट्यूशन लिए उत्तराखण्ड सीबीएसई की दूसरी टाॅपर बनी आस्था कंडवाल

जिला टॉपर हर्षित ने रोजाना चार से पांच घंटे पढ़ाई कर हासिल किया मुकाम, भविष्य में बनना चाहता है डॉक्टर:- प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य के चम्पावत जिले के लोहाघाट में स्थित ओकलैंड पब्लिक स्कूल के छात्र हर्षित पाटनी ने संयुक्त रूप से जिला टॉप किया है। परीक्षा परिणामों में 492 अंक लेकर वह पूरे प्रदेश में भी संयुक्त रूप से सातवें स्थान पर रहे। संयुक्त रूप से चम्पावत जिला टॉप (CBSE 10th topper) करने वाले हर्षित पाटनी का सपना भविष्य में डॉक्टर बनना चाहते हैं। बता दें कि जिला टॉपर हर्षित के पिता प्रमोद चंद्र पाटनी एक शिक्षक हैं जबकि उनकी मां रेखा एक कुशल गृहिणी है। हर्षित का कहना है कि उन्होंने यह मुकाम स्कूल के अतिरिक्त रोजाना घर पर चार से पांच घंटे पढ़ाई कर हासिल किया है। हर्षित यह भी कहते हैं कि यदि हम रोजाना निश्चित रूप से पढ़ाई करें तो कोई भी लक्ष्य मुश्किल नहीं है। हर्षित की इस अभूतपूर्व उपलब्धि पर परिजनों को लगातार बधाई देने वालों का फोन आ रहे हैं।

यह भी पढ़ें- स्कूल जाने के लिए तय किया 25 किमी का सफर आज बनी सीबीएसई की दूसरी उत्तराखण्ड टाॅपर

लेख शेयर करे

Comments

More in UTTARAKHAND CBSE TOPPER

Trending

Advertisement

RUDRAPRAYAG : DM VANDANA CHAUHAN

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

VIDEO

Advertisement
To Top