Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day

उत्तराखण्ड

हल्द्वानी

इस बार जोहार महोत्सव में लोगो के जुबाँ पर एक ही बात अटकी थी “हमारे पप्पू दा की आवाज नहीं सुनाई दी “




हल्द्वानी में जोहार सांस्कृतिक एवं वेलफेयर सोसायटी के तत्वाधान में आयोजित जोहार महोत्सव का कार्यक्रम पूर्ण  तो  हुआ लेकिन दर्शको के दिलो में बस एक कमी रही वो थी उत्तराखण्ड के विख्यात लोकगायक स्व. पप्पू कार्की की जो प्रत्येक वर्ष जोहार महोत्सव में लोगो के बिच अपनी आवाज का ऐसा जादू बिखेरते थे , की महोत्सव में चार चाँद लगा देते थे। इस बार लोगो के जुबाँ पर एक ही बात अटकी थी ” हमारे पप्पू दा की आवाज नहीं सुनाई दी “।




यह भी पढ़े- जोहार महोत्सव में दक्ष काकी ने इतना खुदेड़ गीत गाया ,भर आई लोगो की आंखे और लोगो ने भी खूब आशीर्वाद दिया
बता दे की इस बार जोहार महोत्सव में कुमाऊं की संस्कृति को अपनी लोकगायिकी से जिन्दा रखने वाले दो प्रमुख हस्तियाँ कबूतरी देवी और पप्पू कार्की के गीतों की प्रस्तुति से दोनों को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। प्रत्येक वर्ष पप्पू कार्की जोहार महोत्सव में अपनी मधुर आवाज से जहाँ कार्यक्रम में एक नयी जान डाल देते थे ,वही इस वर्ष दर्शको को उनकी बहुत कमी महसूस हुई। जोहार महोत्सव 2016 में जब पप्पू कार्की ने अपने लोकप्रिय गीत लाली ओ लाली की पेशकश की तो दर्शक झूम उठे थे। इसके साथ ही वर्ष 2017 के जोहार महोत्सव में भी पप्पू कार्की ने ऐजा रे चैत वैशाखा मेरो मुन्स्यारा से महोत्सव में चार चाँद लगा दिए थे। गायिकी का वो हुनर था पप्पू कार्की में जो किसी को भी अपना मुरीद बना ले , अगर उनकी न्योली सुनी जाये तो फिर आप अपने को भावुक होने से नहीं रोक सकते है।

जोहार महोत्सव 2016 में जब पप्पू कार्की ने अपने लोकप्रिय गीत लाली ओ लाली की पेशकश की तो दर्शक झूम उठे थे।




वर्ष 2017 के जोहार महोत्सव में भी पप्पू कार्की ने ऐजा रे चैत वैशाखा मेरो मुन्स्यारा से महोत्सव में चार चाँद लगा दिए थे।





यह भी पढ़े-दक्ष कार्की फिर से अपने गीत “अल्मोड़ा में घर छू तेरो रानीखेता में पिछाण तेरी” से छा गया
उत्तराखण्ड के लोकगीतो की बात करे तो स्व.पप्पू कार्की का नाम सबकी जुबा पर रहता है, जिन्होंने उत्तराखण्ड के लोकगीतों को एक नयी उचाई पर पहुंचाया था, आज भी उनकी अमर आवाज सबके दिलो में जीवित है। स्व. पप्पू कार्की ने अपनी जादुई आवाज से सबके दिलो में अपनी अमिट छाप छोड़ी थी। जब 9 जून 2018 को यह महान लोकगायक अपनी आवाज देकर अलविदा कह गया तो पहाड़ो में एक शोक की लहर दौड़ गयी थी। उनके गीतों की खाश बात तो ये थी की हर युवा वर्ग से लेकर बुजुर्ग तक उनकी आवाज के दीवाने थे ऐसी बेजोड़ कला थी उनके आवाज में की दिल की गहराइयों तक झकझोर कर रख देता था। इतने कम समय में सफलता के उस मुकाम पर थे पप्पू कार्की जहाँ पहुंचने में लोगो को वर्षो लग जाते है , लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था, जो ये महान लोकगायक अपनी अमर आवाज देकर सबको अलविदा कह गया।




लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

UTTARAKHAND MUSIC INDUSTRY

Uttarakhand: new beautiful kumaoni songs chahaa uttarakhandi released voice of Mamta Arya and Mahesh Kumar. Mamta Arya songs
Uttarakhand song: Singer Kishan Mahipal new song jhamm pichodi was released with Pannu Gusain acting. Kishan Mahipal new song
Uttarakhand: Young singer Priyanka Meher new garhwali song rangili pichhodi released. Priyanka Meher new song
Uttarakhand: Daksh Karki new Kumaoni song released with Bhawana Kandpal performance. Daksh karki new song
Uttarakhand: new Kumaoni song bawari pahadi released by Deepa Pant & Mahesh Kumar with Ganesh bhatt.
Uttarakhand: Singer Mamta Arya and Rakesh Kanwal new Kumaoni song he bhouji released. Mamta Arya Kumaoni Song
Folk singer Khushi Joshi Digari's beautiful Jhoda Chanchari song 'Dhura Patala (Dyo ki bochhara)' released.
Uttarakhand: Mamta Arya & Rakesh Kanwal song ramuwa bijuma release with Bhawana Kandpal performance.

Title

To Top
error: Content is protected !!