Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
Uttarakhand news: tiger attack in ramnagar Nainital Tara save her sister life

LEOPARD IN UTTARAKHAND

उत्तराखण्ड

रामनगर: बहन को बचाने के लिए खूंखार बाघ से जा भिड़ी तारा छुड़ा लाई मौत के मुंह से

Ramnagar Tiger attack: नैनीताल के रामनगर मे खूंखार बाघ के हमले से अपनी छोटी बहन को बचाने के लिए भिड़ पड़ी बड़ी बहन, बाघ भागने पर हुआ मजबूर…….

Ramnagar Tiger attack: उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों मे खूंखार जंगली जानवरों का आतंक लगातार बरकरार है जो प्रतिदिन किसी ना किसी को अपने घातक हमलों का वार कर गंभीर रूप से जख्मी ही नही बल्कि उन्हें मौत के घाट भी उतार रहे हैं लेकिन इसी के साथ यहाँ पर कुछ ऐसे लोग भी मौजूद है जो अपने अदम्य साहस का परिचय देते हुए अपनी जान को जोखिम मे डालकर दूसरों को मौत के मुंह से बचा रहे है। ऐसी ही कुछ घटना है नैनीताल जिले के रामनगर क्षेत्र की है जहाँ पर घास काट रही महिला पर खूंखार बाघ ने हमला कर दिया और उसे घसीटकर जंगल ले जाने लगा लेकिन तभी इस दौरान महिला की बड़ी बहन ने अपनी सूझबूझ और साहस का परिचय देते हुए उस खूंखार बाघ से डटकर सामना करते हुए अपनी छोटी बहन की जान बचाई।

यह भी पढ़िए:उत्तराखंड: बोलेरो वाहन गिरा गहरी खाई में दो युवकों ने मौके पर तोड़ा दम….

प्राप्त जानकारी के अनुसार बीते शुक्रवार की शाम करीब साढे पांच बजे लीला देवी पत्नी कामदेव (40) वर्ष अपनी बड़ी बहन तारा देवी और एक अन्य महिला सरस्वती देवी के साथ नैनीताल जिले के रामनगर गर्जिया नेशनल हाईवे के किनारे पशुओं के लिए घास काट रही थी तभी इस दौरान घात लगाए बैठे बाघ ने अचानक से लीला देवी पर हमला कर दिया और उसे घसीटकर ले जाने का प्रयास करने लगा लेकिन इस दौरान लीला देवी की बड़ी बहन तारा देवी ने हिम्मत दिखाई और अपनी बहन को खूंखार बाघ से बचाने के लिए अपनी जान की परवाह किए बिना भिड़ पड़ी। तारा देवी ने लकड़ी से बाघ पर वार किया तो बाघ ने उस पर भी हमला करने का प्रयास किया मगर तारा देवी ने हार नही मानी और हल्ला मचाना शुरू किया महिला के साहस और हिम्मत को देखते हुए बाघ ने लीला देवी को वहीं पर छोड़ दिया और खुद जंगल की तरफ भाग निकला।

यह भी पढ़िए:Uttarkashi Sahastra Tal trek accident: उत्तराखंड सहस्त्रताल पर 9 ट्रैकर्स की गई जान

बाघ के हमले के बाद हाईवे पर राहगीर एकत्र हो गए जिससे सड़क पर जाम लग गया यह देखते हुए वन कर्मियों ने राहगीरों को हाईवे से हटाया और जाम को तुरंत खुलवाया तभी वहां से अचानक कॉर्बेट पार्क के वार्डन अमित ग्वासीकोटी, बिजरानी रेंजर भानु प्रकाश हर्बाेला, कोसी रेंजर शेखर तिवाड़ी सहित अन्य वनाधिकारियों का काफिला गुजर रहा था। जैसे ही उन्हें बाघ के हमले की जानकारी मिली तो उन्होंने तुरंत गाड़ी को रोका और बिजरानी रेंजर ने महिला को तत्काल अपनी गाड़ी से रामनगर अस्पताल पहुंचाया। जहां पर महिला का उपचार किया जा रहा है बाघ ने अपने घातक हमले से महिला के सीने व गर्दन पर पर गहरे जख्म दिए हैं हालांकि महिला अभी खतरे से बाहर है। तारा देवी ने बताया कि घायल महिला के चार बच्चे हैं जो अभी अविवाहित हैं इतना ही नही महिला के पति कामदेव की मृत्यु कई साल पहले हो चुकी है।

खबरों के लिए देवभूमि दर्शन के WHATSAPP GROUP से जुडिए।

👉👉TWITTER पर जुडिए।

लेख शेयर करे

More in LEOPARD IN UTTARAKHAND

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement Enter ad code here

PAHADI FOOD COLUMN


UTTARAKHAND GOVT JOBS

Advertisement Enter ad code here

UTTARAKHAND MUSIC INDUSTRY

Advertisement Enter ad code here

Lates News


देवभूमि दर्शन वर्ष 2017 से उत्तराखंड का विश्वसनीय न्यूज़ पोर्टल है जो प्रदेश की समस्त खबरों के साथ ही लोक-संस्कृति और लोक कला से जुड़े लेख भी समय समय पर प्रकाशित करता है।

  • Founder: Dev Negi
  • Address: Ranikhet ,Dist - Almora Uttarakhand
  • Contact: +917455099150
  • Email :[email protected]

To Top