Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
Uttarakhand: Mayank rawat of Rudraprayag became atomic scientist in atomic research center kalpakkam chennai

उत्तराखण्ड

रूद्रप्रयाग

उत्तराखंड: कंडारा गांव के मयंक रावत परमाणु अनुसंधान केंद्र में परमाणु वैज्ञानिक के लिए चयनित

कंडारा गांव निवासी मयंक रावत(Mayank Rawat) परमाणु अनुसंधान केंद्र कलपक्कम चेन्नई(Kalpakkam Chennai) में परमाणु वैज्ञानिक के लिए हुए चयनित

राज्य के होनहार युवा आज अपनी काबिलियत के बलबूते चारों ओर छाए हुए हैं। देवभूमि के ऐसे होनहार युवाओं ने न सिर्फ अपनी उपलब्धियों से अपने माता-पिता का सर गर्व से ऊंचा किया है बल्कि समूचे देवभूमि उत्तराखंड का भी मान देश-विदेश में बढ़ाया है। आज हम आपको राज्य के एक और ऐसे ही होनहार युवा से रूबरू कराने जा रहे हैं जिनका चयन परमाणु वैज्ञानिक के पद पर हुआ है। जी हां.. हम बात कर रहे हैं राज्य के रूद्रप्रयाग जिले के कंडारा गांव निवासी मयंक रावत (Mayank Rawat) की, जो अपनी कड़ी मेहनत के बलबूते इंदिरा गांधी परमाणु अनुसंधान केंद्र (आईजीसीएआर) कलपक्कम, चेन्नई(Kalpakkam Chennai) में परमाणु वैज्ञानिक के पद पर चयनित हुए हैं। उन्हें आगामी 18 जनवरी को ज्वाइनिंग के लिए बुलाया गया है। मयंक की इस अभूतपूर्व उपलब्धि से जहां उनके परिवार में हर्षोल्लास का माहौल है वहीं पूरे क्षेत्र में खुशी की लहर है। क्षेत्रवासियों का कहना है कि मयंक ने अपनी इस सफलता से न सिर्फ पूरे क्षेत्र और जिले का मान बढ़ाया है बल्कि समूचे उत्तराखण्ड को भी गौरवान्वित किया है।
यह भी पढ़ें- उत्तराखण्ड की बेटी मोनिका राणा भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र में बनी वैज्ञानिक

वर्तमान में आईआईटी मद्रास से मेकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे मयंक, 18 जनवरी को बुलाया गया है ज्वाइनिंग के लिए:-

प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से राज्य के रूद्रप्रयाग जिले के क्यूंजा घाटी के कंडारा गांव निवासी मयंक रावत इंदिरा गांधी परमाणु अनुसंधान केंद्र (IGCAR)  कलपक्कम, चेन्नई में परमाणु वैज्ञानिक के पद पर चयनित हुए हैं। बता दें कि वर्तमान में आईआईटी मद्रास से मेकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे मयंक ने हाईस्कूल की परीक्षा केंद्रीय विद्यालय अगस्त्यमुनि से उत्तीर्ण की। तत्पश्चात उन्होंने 2014 में नवोदय विद्यालय जाखधार से इंटरमीडिएट की पढ़ाई पूरी की, जिसके उपरांत मयंक रावत ने एनआईआटी श्रीनगर गढ़वाल से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बी-टेक किया। बी-टेक करने के उपरांत न सिर्फ उन्होंने प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी शुरू की बल्कि आगे की पढ़ाई जारी रखते हुए आईआईटी मद्रास में एमटेक में प्रवेश लिया। यह उनकी कड़ी मेहनत का ही परिणाम है कि अब वह परमाणु वैज्ञानिक बन ग‌ए है। बताते चलें कि उन्हें आगामी 18 जनवरी को ज्वाइनिंग के लिए बुलाया गया है ‌ उनके पिता विजयपाल सिंह रावत पौड़ी गढ़वाल जिले में सीईओ कार्यालय में मुख्य प्रशासनिक अधिकारी के पद पर तैनात हैं जबकि उनकी माता का नाम कमला रावत हैं।

यह भी पढ़ें- उत्तराखण्ड :कृषि अनुसंधान केंद्र की परीक्षा उत्तीर्ण कर पहाड़ की बेटी स्नेहा बनी वैज्ञानिक

लेख शेयर करे

Comments

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

RUDRAPRAYAG : DM VANDANA CHAUHAN

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

VIDEO

Advertisement
To Top