Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
GHUGHUTI FESTIVAL kumaon Mandal GHUGHUTI TYOHAR

उत्तराखण्ड विशेष तथ्य

नैनीताल

लोकपर्व

कुमाऊं मंडल में बड़े उमंग से बच्चों से लेकर बूढ़े बुजुर्गों ने मनाया घुघुती त्यौहार देखिए तस्वीरें

Ghughuti Festival Kumaon Mandal: बूढ़े बुजुर्गों से लेकर बच्चों तक ने बड़े हर्षोल्लास से मनाया समूचे कुमाऊं मंडल में घुघुती त्यार, युवा घुघुतो के साथ छाए रहे सोशल मीडिया पर

उत्तराखंड में मकरसंक्रांति का त्योहार बड़े ही उमंग के साथ मनाया गया। जहां कुमाऊं मंडल(Kumaon Mandal) में लोगों ने भोर से ही स्नान करके घुघुती त्यार(Ghughuti Festival) की शुरुआत की तो किसी ने तीर्थ स्थलों पर जाकर मकर सक्रांति का पर्व मनाया। वही आज कुमाऊं मंडल के कई धार्मिक स्थल जैसे बागेश्वर बागनाथ , चंपावत के पंचेश्वर घाट, हल्द्वानी के रानी बाग स्थित चित्र शीला घाट मैं गार्गी नदी के तट पर कई लोग जनेऊ संस्कार के लिए पहुंचे क्योंकि आज का दिन से लोग नए कामों एवं संस्कारों की शुरुआत करते है। वही आटे के घुघुत बनाकर बच्चों के लिए घुघुत की माला तैयार की गई जो सुबह को कौवो को खिलाई गई।
यह भी पढ़िए: उत्तराखण्ड: उतरैणी- घुघुतिया त्यार पर ताजा हो उठी बचपन की यादें, पहाड़ में नहीं दिखती अब वो रौनक
GHUGHUTI FESTIVAL kumaon Mandal Nainital

GHUGHUTI FESTIVAL image 2021

बुजुर्ग महिला घुघते की माला पहने हुए खटीमा से

वैसे अगर देखा जाए तो इस पूरे पर्व का आकर्षण कौवा और बच्चे ही रहते हैं बच्चे सुबह-सुबह अपनी भीनी भीनी आवाज में गले में लंबी चौड़ी घुघुते की माला डालकर “काले कौवा काले घुघुती माला खा ले गुनगुनाते हुए दिखते हैं।” कुमाऊं मंडल के कुछ जिलों में जैसे पिथौरागढ़, बागेश्वर 13 जनवरी को घुघुते बनाए गए और 14 जनवरी को कौवो को खिलाएं गए। वही कुमाऊं के कुछ जिले जैसे अल्मोड़ा और नैनीताल में 14 जनवरी को घुघुते बनाए गए और 15 जनवरी की सुबह अर्थात आज कौवो को खिलाएं गए।
यह भी पढ़िए: उत्तराखण्ड: स्वरोजगार के प्रेरणा स्रोत बने लोद सोमेश्वर के भास्कर रमेला, कोर्स करने के बाद पहाड़ में खोला रेस्टोरेंट
नैनीताल जिले से आई घुघुती त्यौहार पर कुछ तस्वीरें सामने
GHUGHUTIYA TYOHAR festival3

घुघुती त्यौहार के इस इस मौके पर बूढ़े बुजुर्गों ने भी घुघुते बनाकर इस पर्व की शोभा बढ़ाई वहीं अगर बच्चों की बात करें तो गले में घुघते की माला लेकर गांव भर में घूमते रहे। वाकई उत्तराखंड का यह लोक पर्व  अपने आप में बेमिसाल है। यही पर्व है जो उत्तराखंड की लोक संस्कृति को संजोए हुए हैं, और हमें भी पूरे हर्षोल्लास के साथ इन्हें मना कर अगली पीढ़ियों तक पहुंचाना चाहिए।
यह भी पढ़िए: उत्तराखंड के लोक पर्व “घी त्यार” घी सक्रांति का महत्व .. घी का सेवन हैं इस दिन बेहद जरूरी
कुमाऊं मंडल में बच्चे इस तरह घुघते की माला पहने हुए दिखे

GHUGHUTI FESTIVAL Uttarakhand news

👉घुघते की माला पहने हुए दक्ष फर्त्याल हल्द्वानी से।।

GHUGHUTI FESTIVAL image latest

👉घुघते की माला पहने हुए रानीखेत नौसार गांव से दिव्यांशी बिष्ट

GHUGHUTI FESTIVAL image Uttarakhand

👉घुघुते की माला पहने हुए गुड़गांव से युविका भंडारी।।

GHUGHUTI TYOHAR photo

👉कोटाबाग नैनीताल से घुघते की माला पहने हुए रिद्धि बिष्ट।

GHUGHUTI FESTIVAL photo Uttarakhand

👉घुघते की माला पहने हुए कियांश जग्गी लालकुआं नैनीताल जिले
उत्तराखंड युवा भी छाए रहे सोशल मीडिया पर घुघते की माला पहने हुए

Sona pipalia GHUGHUTI FESTIVAL image

👉घुघते की माला पहने हुए पिथौरागढ़ से सोना पिपलिया





👉👉देवभूमि दर्शन के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

लेख शेयर करे

Comments

More in उत्तराखण्ड विशेष तथ्य

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement

To Top