Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
Uttarakhand: Teacher Devendra Bisht and S. A. Mahendra Mehta of Bageshwar honored with Divyang Award 2022. Uttarakhand Divyang Award 2022

उत्तराखण्ड

बागेश्वर

उत्तराखंड: राज्य दिव्यांग पुरस्कार से सम्मानित हुए एक शिक्षक और एक वरिष्ठ सहायक

Uttarakhand Divyang Award 2022: दोनों ने दिव्यांगता को नहीं होने दिया खुद पर हावी, अपनी कड़ी मेहनत से हासिल किया मुकाम, अब उत्तराखंड सरकार ने किया दिव्यांग पुरस्कार से सम्मानित….

हर वर्ष 3 दिसंबर को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दिव्यांग दिवस मनाया जाता है। दिव्यांग दिवस को मनाने का उद्देश्य दिव्यांगों के प्रति व्यवहार में बदलाव लाना है। इसी अवसर पर राज्य के बागेश्वर जिले के एक शिक्षक तथा वरिष्ठ सहायक को उत्तराखंड दिव्यांग पुरस्कार से सम्मानित किया गया। बता दें कि दोनों को देहरादून में बीते रोज इस सम्मान से नवाजा गया। बताते चलें कि राज्य दिव्यांग पुरस्कार के लिए चयनित हुए देवेंद्र सिंह बिष्ट वर्तमान में राजकीय इंटर कॉलेज कांडा में अर्थशास्त्र के प्रवक्ता हैं।
(Uttarakhand Divyang Award 2022)
यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: बालिका इंटर कॉलेज की शिक्षिका रमा खर्कवाल को मिलेगा उत्कृष्ट शिक्षिका पुरस्कार

बता दें कि देवेंद्र सिंह बिष्ट मूल रूप से कांडा के सानिउडियार निवासी है। जनवरी 2009 को देवेंद्र सिंह बिष्ट राजकीय इंटर कॉलेज बोहाला में एलटी शिक्षक के रूप में नियुक्त हुए थे। इसके बाद अगस्त 2019 को वह प्रवक्ता पद पर प्रोन्नत होकर राजकीय इंटर कॉलेज कांडा में नियुक्त हुए। देवेंद्र सिंह बिष्ट ने बोहाला में स्कउट मास्टर और कांडा में एनसीसी कार्यक्रम अधिकारी के रूप में कई सराहनीय कार्य किए है। उनका सालाना परीक्षाफल हमेशा ही 90 प्रतिशत से अधिक रहा है। वहीं इसके साथ ही उन्होंने पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में भी उत्कृष्ट कार्य किए है। उन्होंने कभी भी अपनी दिव्यांगता को अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया और विद्यार्थियों को भी शारीरिक कमजोरी की चिंता किए बगैर मानसिक रूप से मजबूत बनने का साहस दिया।
(Uttarakhand Divyang Award 2022)
यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: लता नौटियाल को विशिष्ट कार्यों के लिए मिला तीलू रौतेली पुरस्कार

वहीं दूसरी ओर मुख्य शिक्षाधिकारी कार्यालय में तैनात वरिष्ठ सहायक महेश चंद्र सिंह मेहता मूल रूप से पिथौरागढ़ जिले के बनकोट, भट्टीगांव के निवासी हैं। उनके पिता स्व. राम सिंह मेहता राजकीय इंटर कॉलेज में शिक्षक थे। वर्ष 2003 में सड़क हादसे में उनका निधन हो गया था। जिसके बाद महेश चंद्र को मई 2003 में लिपिक के पद पर राजकीय इंटर कॉलेज बोहाला में तैनाती मिली। इसके बाद वर्ष 2005 से उनकी तैनाती सीईओ कार्यालय में हैं तथा वह सहायक अध्यापक एलटी एंव प्रवक्ता संवर्ग के कार्यों को देखते हैं।उनके सराहनीय कार्य के कारण उनका चयन राज्य दिव्यांग पुरस्कार के लिए हुआ है।
(Uttarakhand Divyang Award 2022)





यह भी पढ़ें- राज्य स्थापना दिवस पर उत्तराखंड गौरव पुरस्कार की घोषणा, प्रदेश की पांच विभूतियों को मिलेगा सम्मान

उत्तराखंड की सभी ताजा खबरों के लिए देवभूमि दर्शन के WHATSAPP GROUP से जुडिए।

उत्तराखंड की सभी ताजा खबरों के लिए देवभूमि दर्शन के TELEGRAM GROUP से जुडिए।

👉👉TWITTER पर जुडिए।

लेख शेयर करे

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement
Advertisement
To Top