Connect with us
Uttarakhand Government Happy Independence Day
Uttarakhand news: Ajay singh Bisht of Kaladhungi Nainital YouTube channel Zappy Toons

UTTARAKHAND SELF EMPLOYMENT

उत्तराखण्ड

नैनीताल

उत्तराखंड के अजय बिष्ट छा गए यूट्यूब की दुनिया में, कमाई लाखों में, देखिए उनके विडियो

अजय (Ajay Bisht) ने यूट्यूब को बनाया स्वरोजगार का जरिया, हर महीने हो रही लाखों की कमाई, बच्चों के बीच काफी लोकप्रिय है उनका यूट्यूब चैनल Zappy Toons…

21 वीं सदी के इस आधुनिक युग में युवाओं के लिए स्वरोजगार के अवसर मुहैया कराने में इंटरनेट ने अहम भूमिका निभाई है। बस जरूरत है तो केवल अपने हुनर, ज्ञान और शौक को जनता के बीच अच्छे से पहुंचाने की। इसके बाद आपका यह शोक एक ऐसे रोजगार के साधन के रूप में तब्दील हो जाएगा जिसके आगे नामी-गिरामी कम्पनियों की नौकरी भी फेल है। हालांकि यहां तक पहुंचने के लिए आपको लगन और मेहनत के साथ काम करने के अलावा विपरित परिस्थितियों का सामना भी करना पड़ सकता है लेकिन यदि आपने परिस्थितियों के आगे हार नहीं मानी तो एक दिन जरूर सारी दुनिया आपकी मुट्ठी में होगी। ऐसा ही कुछ संघर्षभरा सफर रहा है यूट्यूब पर जैप्पी टून्स नामक चैनल चलाने वाले राज्य के इस होनहार युवा का। जी हां.. हम बात कर रहे हैं मूल रूप से राज्य के नैनीताल जिले के रहने वाले अजय सिंह बिष्ट (Ajay Bisht) की, जिनके चैनल (Zappy Toons) की विडियो आज हर उस घर में चलाई जाती है जहां छोटे-छोटे बच्चे रहते हैं। यही कारण है कि 1 करोड़ से अधिक सब्सक्राइबर होने के साथ ही रोजाना 80 लाख से अधिक बच्चे उनके चैनल के प्रेरक वीडियो को देखते हैं। जिसके कारण वह हर माह 20 से 25 लाख रुपए की कमाई भी कर रहे हैं।
यह भी पढ़ें- बधाई : उत्तराखण्ड के विख्यात लोकगायक स्वर्गीय पप्पू कार्की के यूट्यूब चैनल को मिला सिल्वर बटन

बच्चों के बीच काफी लोकप्रिय हैं उनके चैनल पर आने वाले नानी तेरी मोरनी, लकड़ी की काठी जैसे विडियो:-

प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से राज्य के नैनीताल जिले की कालाढूंगी तहसील क्षेत्र में रहने वाले अजय सिंह बिष्ट एक यूट्यूबर है। उनके यूट्यूब चैनल का नाम जैप्पी टून्स है जिस पर वह बच्चों के लिए रचानात्मक विडियो के साथ ही हिंदी कहानियों और कविताओं की भरमार है। जिनमें नानी तेरी मोरनी, लकड़ी की काठी जैैसेे विडियो बच्चों के बीच काफी लोकप्रिय हैं। यह सभी विडियो एनीमेशन कार्टून के माध्यम से दिखाई जाती है जिस कारण उनका यह चैनल जहां बच्चों में काफी मशहूर है वहीं परिजनों की चिंता भी कम करता है। क‌ई बार तो परिजन खुद रोते हुए मासूम बच्चों को चुप कराने के लिए उनकी विडियो का सहारा लेते हैं। छोटी सी उम्र में अपने हुनर और कड़ी मेहनत के बलबूते सफलता की कहानी लिखने वाले अजय का कहना हैं कि संघर्ष व निरंतर अभ्यास से ही किसी लक्ष्य तक पहुंचा जा सकता है। असफलता से सीख लेते हुए हमें और अधिक विश्वास के साथ फिर से अपने मिशन में जुटना चाहिए। इससे निश्चित ही हमें सफलता मिलेगी।
यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: न्यू गांव के जसवीर ने मडुए से बने पिज्जा, बर्गर को बनाया स्वरोजगार का जरिया

अजय ने 2017 में की थी अपने यूट्यूब चैनल की शुरुआत, महज 29 वर्ष की उम्र में हासिल किया इतना ऊंचा मुकाम:-

बता दें कि वर्ष 2017‌ अपने यूट्यूब चैनल की शुरुआत करने वाले अजय ने कुमाऊं इंजीनियरिंग कॉलेज द्वाराहाट से साफ्टवेयर इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की है। महज 29 वर्ष की उम्र में इस मुकाम को हासिल करने वाले अजय बताते हैं कि थ्रीडी एनिमेशन विडियो वाले इस चैनल में उनके साथ 30 युवाओं की टीम काम करती है। इतना ही नहीं बीते दस वर्षों से डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में कार्यरत अजय दो हजार युवाओं को यह हुनर सिखा भी चुके हैं। सबसे खास बात तो यह है कि सोशल मीडिया सांख्यिकी व विश्लेषण पर नजर रखने वाली अमेरिकी वेबसाइट सोशल ब्लेड ने जैप्पी ट्रन्स को शिक्षा श्रेणी में वैश्विक रैंक 30 दी है। अजय का कहना है कि वह भारत में दूसरे नंबर के शिक्षा चैनल हैं। यूट्यूब की दुनिया में बेहतरीन नाम कमाने वाले अजय अब तक आठ यूट्यूब सिल्वर बटन, तीन गोल्ड व एक डायमंड प्राप्त कर चुके है।



यह भी पढ़ें- पूजा ने अपने हुनर से ऐंपण कला को बनाया स्वरोजगार का जरिया, देश-विदेशो से हो रही डिमांड

यूट्यूब पर जुड़िए

लेख शेयर करे

More in UTTARAKHAND SELF EMPLOYMENT

Trending

Advertisement

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

Advertisement
To Top