Connect with us
Uttarakhand Government Coronavirus donate Information
alt="Kishan Dhanik snake catcher in haldwani nainital uttarakhand"

उत्तराखण्ड

हल्द्वानी

उतराखण्ड: साँप पकड़ने का अपना अलग अंदाज है किशन का, अभी तक कर चुके कई सफल रेस्क्यू

हल्द्वानी के किशन धानिक (Kishan dhanik) अब तक ब्लैक कोबरा, और खतरनाक अजगर जैसे विषैले सांपों का भी सफल रेस्क्यू कर चुके हैं।

गर्मी के मौसम में जहां सांप घरों के आसपास अत्यधिक मात्रा में दिखाई देते हैं वहीं बरसात का मौसम आते ही घरों में कीट-पतंगों के साथ ही सांप आदि का खोफ भी मंडराने लगता है। ऐसे में लोगों को बेहद दिक्कत का सामना करना पड़ता है। सबसे ज्यादा परेशानी का सामना तो उनको करना पड़ता है जिनके घरों में छोटे-छोटे बच्चे हैं। ऐसे में कुछ लोग सांप पकडऩे वाली रेस्क्यू टीम से भी सम्पर्क करते हैं जो सांप तो पकड़ ले जाते हैं लेकिन लोगों से मोटी रकम भी वसूल ले जाते हैं। आज हम आपको जिस स्नेक कैचर से रूबरू कराने जा रहे हैं वो निशुल्क सांप पकड़ कर लोगों की मदद करते हैं। जी हाँ हम बात कर रहे राज्य के नैनीताल जिले के हल्द्वानी निवासी किशन धानिक (kishan dhanik) की जो अभी तक बड़े बड़े सांपो का सफल रेस्क्यू कर चुके हैं।
यह भी पढ़ें- उत्तराखण्ड : पहाड़ में दुखद घटना, आंगन में खेल रहे मासूम बच्चे की सांप के डसने से मौत

देवभूमि दर्शन से खास बातचीत :  देवभूमि दर्शन से बातचीत में किशन धानिक बताते हैं कि वह मूल रूप से राज्य के पिथौरागढ़ जिले के गंगोलीहाट के रहने वाले हैं और वर्तमान में परिवार सहित नैनीताल जिले के हल्द्वानी तहसील के पनियाली गांव में रहते हैं। वह एक कुशल स्नेक कैचर (snake catcher)  है और आस-पास के इलाकों में सांपों की लगभग सभी प्रजातियों का निःशुल्क रेस्क्यू ऑपरेशन कर लोगों को सांपों से मुक्ति दिलाते हैं। किशन बताते है की अब तक वह ब्लैक कोबरा, और खतरनाक अजगर जैसे विषैले सांपों का भी सफल रेस्क्यू कर चुके हैं। सांपों को पकड़कर वह सुरक्षित जंगल में छोड़ देते हैं। सबसे खास बात यह है कि एक कुशल स्नेक कैचर की तरह सांपों का सफल रेस्क्यू करने वाले किशन ने कही से भी सांपों को पकड़ने का प्रशिक्षण प्राप्त नहीं किया है बल्कि उन्होंने अपने बचपन के शौक को हुनर में बदला है। अब तक हजारों खतरनाक सांपों का सफल रेस्क्यू कर चुके किशन का उद्देश्य न सिर्फ लोगों की मदद करना है बल्कि वह सांपों को बचाने के लिए भी प्रयासरत हैं। इतना ही नहीं वह अपने फेसबुक पेज के माध्यम से सांपों के विषय में जानकारी साझा कर लोगों को उनकी प्रजातियों के बारे में जागरूक भी कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- उतराखण्ड के लिए गौरवशाली पल फ्रांस से राफेल लेकर आए दीपक चौहान, नैनीताल से की है पढ़ाई

लेख शेयर करे

Comments

More in उत्तराखण्ड

Trending

Advertisement

VIDEO

UTTARAKHAND CINEMA

Advertisement

CORONA VIRUS IN UTTARAKHAND

RUDRAPRAYAG : DM VANDANA CHAUHAN

Advertisement
To Top